Divya Himachal Logo Sep 25th, 2017

कविता

कोई सत्ता नहीं

एक सुबह रोज

दस्तक देती है

एक सूरज अकसर

आवाज देता रहता है

साथ चलने का आग्रह

करता रहता है

उन बस्तियों, मोहल्लों, गांवों तक

जहां प्रकाश की किरणें

कभी सीधी रेखा में नहीं चलती

रस्मों-रिवाजों की घिसी-पिटी चक्कियां

बारीक नहीं

खासा मोटा पीसती हैं

हत्या, बलात्कार, हिंसा की घटना

दिलों को नहीं झिंझोड़ती

वरन एक बेरहम सी खबर बन

हवा में तैरती है

एक चुप को सौ सुख मानकर

जहां आज भी आदमी से

बड़ा और जरूरी है

उसके जात-मजहब का सवाल

कुछ लफ्ज मसलन ईमान, सच्चाई

प्यार, मुहब्बत, इनसानियत

बस किताबों में ही दर्ज रह गए हैं

खुली हवाएं, बगावत की निशानी हैं

और ऐसी कोई सत्ता नहीं

जहां बगावत के लिए

सूली की सजा न हो।

-हंसराज भारती, बसंतपुर, सरकाघाट, मंडी

September 3rd, 2017

 
 

पोल

क्या वीरभद्र सिंह के भ्रष्टाचार से जुड़े मामले हिमाचल विधानसभा चुनावों में बड़ा मुद्दा हैं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates