Divya Himachal Logo Sep 22nd, 2017

पांच माह के टॉप पर खुदरा महंगाई

3.36 फीसदी के लेवल पर पहुंचा सीपीआई, औद्योगिक विकास दर में सुधार

NEWSनई दिल्ली— खाद्य पदार्थों में सब्जियों, फलों और चीनी के साथ आवास तथा बिजली एवं ईंधनों के दाम में तेज बढ़ोतरी से उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) आधारित खुदरा महंगाई  की दर अगस्त में लगातार दूसरे महीने बढ़ती हुई पांच महीने के उच्चतम स्तर 3.36 प्रतिशत पर पहुंच गई। इस साल जुलाई में महंगाई की दर 2.36 प्रतिशत और पिछले साल अगस्त में 5.05 प्रतिशत रही थी। खुदरा महंगाई का यह इस साल मार्च (3.89 प्रतिशत) के बाद का सर्वाधिक स्तर है। सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार, अगस्त में खाद्य पदार्थों की महंगाई दर भी मार्च के बाद के उच्चतम स्तर 1.52 प्रतिशत पर पहुंच गई। यह मई, जून और जुलाई में लगातार ऋणात्मक रहने के बाद शून्य से ऊपर आई है। पिछले साल अगस्त की तुलना में इस साल अगस्त में सब्जियों के दाम 6.16 प्रतिशत, चीनी तथा कंफेक्शनरी उत्पादों के 7.35 प्रतिशत और फलों के 5.29 प्रतिशत बढ़े हैं। खुदरा महंगाई की दर बढ़ने से रिजर्व बैंक के अगले महीने ब्याज दरों में कटौती करने की संभावना कुछ कम हुई है। रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति ने पिछली समीक्षा के समय ही कहा था कि चालू वित्त वर्ष के अंत तक महंगाई बढ़ने का जोखिम है। महंगाई के आंकड़ों के अनुसार, अगस्त में अनाजों के दाम 3.87 प्रतिशत और दूध तथा दुग्ध उत्पादों के 3.58 प्रतिशत बढ़े हैं। वहीं, पिछले साल अगस्त की तुलना में दालें 24.43 प्रतिशत, मसाले 1.74 प्रतिशत और अंडे 1.67 प्रतिशत सस्ते हुए हैं। अन्य वस्तुओं एवं सेवाओं में आवास 5.58 प्रतिशत और ईंधन तथा बिजली 4.94 प्रतिशत महंगी हुई है। वस्त्र तथा जूते-चप्पल 4.58 प्रतिशत महंगे हुए। शिक्षा की महंगाई दर 4.40 प्रतिशत, स्वास्थ्य की 4.33 प्रतिशत और घरेलू सामान एवं सेवाएं 4.24 प्रतिशत महंगी हुई हैं। ग्रामीण इलाकों के मुकाबले शहरी इलाकों में महंगाई दर ज्यादा रही। अगस्त में शहरी इलाकों में खुदरा महंगाई 3.35 प्रतिशत और ग्रामीण इलाकों में 3.30 प्रतिशत रही। खाद्य महंगाई ग्रामीण इलाकों में 1.38 प्रतिशत और शहरी इलाकों में 1.67 प्रतिशत रही।

इतनी महंगी हुई चीजें

* दालों का इंडेक्स 133.6 से बढ़कर 132.7 फीसदी पर

* मिल्क और मिल्क से बने अन्य उत्पादों का इंडेक्स 138.5 से बढ़कर 138.9 फीसदी

* फलों का इंडेक्स 141.8 से बढ़कर 145.4 फीसदी

* शुगर एंड कंफेक्शनरी का इंडेक्स 120.5 से बढ़कर 121.2 फीसदी

* कपड़ों का इंडेक्स बढ़कर 139.3 से बढ़कर 140.3 फीसदी

* फुटवियर इंडेक्स 132.1 से बढ़कर 133.1 फीसदी

September 13th, 2017

 
 

पोल

क्या जीएस बाली हिमाचल में वीरभद्र सिंह का विकल्प हो सकते हैं?

View Results

Loading ... Loading ...
 
Lingual Support by India Fascinates