himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

सरकार ने मारे कर्मचारियों के हक

धूमल का आरोप; बदतर कर दिए हालात, अब तो वित्तीय लाभ देना आसान नहीं

NEWSहमीरपुर— नेता प्रतिपक्ष एवं पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने कहा है कि हिमाचल सरकार ने राज्य के कर्मचारियों के हकों पर डाका डाला है। प्रदेश के कर्मचारियों को तय समय पर डीए से वंचित कर दिया। हालात इतने बदतर कर दिए हैं कि कर्मचारियों को वित्तीय लाभ देना आसान नहीं होगा। श्री धूमल बुधवार को हमीरपुर में भाजपा के पूर्व कर्मचारी प्रकोष्ठ के सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि भाजपा आज विश्व की सबसे बड़ी पार्टी बनी है। 11 करोड़ से ज्यादा पार्टी के सदस्य हैं। पहले जो वरिष्ठ अधिकारी सेवानिवृत्ति के बाद राजनीतिक गतिविधियों से दूर रहते थे, आज नए भारत के निर्माण के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान पर अपना योगदान देने के लिए पार्टी में शामिल हो रहे हैं। उनका पार्टी में बहुत स्वागत है। जब अच्छे लोग राजनीति को बुरा मानकर राजनीति से किनारा कर लेते हैं, तब बुरे लोग राजनीति में आते हैं और जब वह बुरे लोग सत्ता में आते हैं तब सबसे ज्यादा दुखी अच्छे लोग ही होते हैं कि काश हमने तब राजनीति से किनारा नहीं किया होता तो बुरे लोग सत्ता में नहीं होते। इसलिए पार्टी में पूर्व कर्मचारी प्रकोष्ठ के बैनर तले लोग पार्टी में जुड़ रहे हैं। पार्टी को सर्वस्पर्शी बनाने के लिए मोर्चा-प्रकोष्ठ बनाए गए हैं। इसी तरह अनुसूचित जाति मोर्चा काम कर रहा है। चौंसठ मंडलों में दलित स्वाभिमान सम्मेलन हुए हैं और कई जगह साढ़े आठ सौ लोग जो दलित समुदाय से संबंध रखते हैं, वह पार्टी में शामिल हुए हैं। इसी तरह युवा  और महिला मोर्चा काम कर रहा है। इस अवसर पर सेवानिवृत्त हुए कुछ अधिकारी और कर्मचारी भी पार्टी में शामिल हुए। प्रकोष्ठ के प्रदेशाध्यक्ष घनश्याम शर्मा ने भी संबोधन दिया। इस अवसर पर राम सिंह, अनिल ठाकुर, विजय पाल सोहारू, बलदेव धीमान, प्यारे लाल शर्मा, रसील सिंह मनकोटिया, पुरुषोत्तम ठाकुर, अंकुश दत्त शर्मा, राकेश ठाकुर, अजय शर्मा, बीना शर्मा, सुमन कपिल, सुनीता सोनी, संजीव कटवाल, महिंद्र सिंह, अखिल ठाकुर सहित सैकड़ों पूर्व कर्मचारी उपस्थित रहे।

वेतन देना मुश्किल

प्रो. धूमल ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने कर्मचारियों को समय पर डीए नहीं दिया। बड़े अधिकारी कह रहे हैं पेंशन तो दूर आने वाले समय में वेतन देना भी प्रदेश में मुश्किल हो जाएगा।

You might also like
?>