आईसीएफआई हैदराबाद ने मेधावियों को बांटी डिग्रियां

नई दिल्ली — आईसीएफएआई हैदराबाद के सातवें दीक्षांत समारोह का आयोजन बुधवार को शंकरापाली रोड हैदराबाद स्थित प्रांगण में करवाया, जिसमें 1,466 विद्यार्थियों को डिग्रियों से नवाजा गया। डा. जी. साथीश रेड्डी, रक्षा मंत्री के वैज्ञानिक सलाहकार और महानिदेशक, मिसाइल और रणनीति प्रणाली, रक्षा रिसर्च और विकास संस्था ने दीक्षांत समारोह में शोधार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि रिसर्च के लिए सीखने की भावना को महत्त्व दें, जो तकनीक के परिणामस्वरूप मानवता को लाभ दें। उन्हें विद्यार्थियों को देश का जिम्मेदार, प्रबुद्ध और उत्पादक नागरिक बनने और देश के लाभ के लिए अपने ज्ञान का प्रयोग करने को कहा। उन्होंने कहा कि आपको हमारे महान देश के लिए भविष्य के नागरिक व राजदूत के रूप में महत्त्वपूर्ण रोल निभाना है। उन्होंने विद्यार्थियों को अपने आस पास होने वाले अद्भुत इकॉनोमिक व तकनीकी बदलाव को अपनाने को कहा। ‘मेक इन इंडिया’ प्रोग्राम की सफलता के लिए शैक्षिक संस्थानों को नवीकरण और उद्यमिता का हब बनाने और अन्य शैक्षणिक संस्थानों और रिसर्च संस्थानों के साथ जुड़ने का आग्रह किया। उन्होंने विद्यार्थियों को स्टार्ट अप इंडिया प्रोग्राम के कार्यक्रमों में भी भाग लेने को कहा। प्रो. जे. महेंद्र रेड्डी, उप कुलपति ने वर्ष 2016-17 की विश्वविद्यालय द्वारा बनाई एक प्रोग्रेस रिपोर्ट पेश की।  उन्होंने विभिन्न विभागों और विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों की उपलब्धियों पर भी प्रकाश डाला। डा.सी. रंगाराजन, विश्वविद्यालय के कुलपति ने समारोह की अध्यक्षता की। अपने भाषण में उन्होंने उच्च शिक्षा में हो रहे मौलिक परिवर्तन के बारे में कहा। दीक्षांत समारोह के दौरान 1,466 विद्यार्थियों, जिनमें 537 लड़कियों ने डिग्रियां प्राप्त कीं। 15 विद्यार्थियों को पीएचडी डिग्री से नवाजा गया और 1078 को एमबीए की डिग्री दी गई।

You might also like