himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

गुजरात में चुनावों की घोषणा क्यों नहीं

कांग्रेस ने चुनाव आयोग से मांगा जवाब

नई दिल्ली – चुनाव आयोग ने गुरुवार को हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान किया, लेकिन गुजरात विधानसभा चुनाव के डेट की घोषणा नहीं की। हिमाचल के साथ गुजरात चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं होने पर कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि ऐसा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर किया जा रहा है, क्योंकि पीएम 16 अक्तूबर को गुजरात जाने वाले हैं। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि चूंकि पीएम 16 अक्तूबर को वहां जा रहे हैं और अगर चुनाव डेट घोषित हो जाती तो फिर आचार संहिता लागू हो जाती। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग को इस मसले पर देश को जवाब दिए जाने की जरूरत है। हालांकि चुनाव आयोग ने स्पष्ट किया है कि गुजरात चुनाव के डेट का ऐलान नहीं होने का पीएम के दौरे से कोई मतलब नहीं है। आयोग के सूत्रों के अनुसार वहां अगले हफ्ते डेट की घोषणा होगी, लेकिन आयोग ने यह साफ कर दिया कि गुजरात में भी वोटों की गिनती 18 दिसंबर को ही होगी। गुजरात में चुनाव के डेट की घोषणा नहीं करने पर आयोग ने सफाई दी। चुनाव आयोग ने इस बारे में उठे सवाल पर कहा कि ऐसा नियम सम्मत किया गया है। पीएम मोदी 16 अक्तूबर को गुजरात जा रहे हैं और वह नई योजनाओं का शिलान्यास कर सकते हैं। क्या पीएम मोदी के कार्यक्रम के मद्देनजर राज्य में चुनाव के डेट की घोषणा नहीं गई, इस मसले मुख्य चुनाव आयुक्त अचल कुमार ज्योति ने कहा कि इसका पीएम के दौरे से कोई मतलब नहीं है।

संदेह पैदा करता है ऐलान

कांग्रेस ने हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव की घोषणा का स्वागत करते हुए गुरुवार को कहा कि मतदान एवं मतगणना की तिथि में लंबा अंतर और गुजरात विधानसभा के चुनाव की तारीख घोषित नहीं करना संदेह पैदा करता है। कांग्रेस सांसद तथा पार्टी की हिमाचल प्रदेश की प्रभारी सचिव रंजीता रंजन कहा कि हिमाचल प्रदेश में चुनाव के लिए पार्टी तैयार है और जल्द ही उम्मीदवारों की घोषणा कर दी जाएगी। पार्टी ने पहले ही मुख्यमंत्री का चेहरा तय कर दिया है, जबकि भारतीय जनता पार्टी में मुख्यमंत्री पद के कई उम्मीदवार हैं। वहां मतदान और मतगणना के बीच एक माह दस दिन का बड़ा फर्क है और यह संदेह पैदा करता है। उन्होंने कहा कि हिमाचल के साथ ही गुरुवार को गुजरात के लिए भी चुनाव घोषित किए जाने चाहिए थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ जो संदेह पैदा करता है। इससे साफ है कि आने वाले कुछ दिनों में गुजरात की जनता को भ्रमित करने के लिए कुछ लुभावनी घोषणाएं की जाएंगी।

You might also like
?>