himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

भाजपा में नए चेहरे कुछ MLA के कटेंगे पत्ते

भाजपा में आएंगे नए चेहरे कुछ एमएलए के कटेंगे पत्ते

सर्वे में आए नामों पर मंत्रणा, श्रीनयनादेवी में चुनाव समिति की बैठक

newsश्रीनयनादेवी— मां श्रीनयनादेवी के चरणों में आयोजित की गई प्रदेश भाजपा चुनाव समिति की बैठक में सोलह सदस्यीय कमेटी ने प्रदेश प्रभारी मंगल पांडे की मौजूदगी में सभी 68 सीटों पर लंबी मंत्रणा के बाद दो से तीन नाम शार्टलिस्ट कर लिए हैं। इन्हीं में से किसी एक नाम पर अंतिम मुहर लगेगी। आचार संहिता का इंतजार कर रही भाजपा अब अगले सप्ताह होने वाली चुनाव समिति की बैठक में इन नामों पर गहन चर्चा के बाद एक नाम पर सहमति बनाएगी। पता चला है कि अलग-अलग सर्वे में आए नामों पर चर्चा करने के बाद अब जल्द ही इनकी ज्वाइनिंग करवाए जाने पर भी निर्णय हुआ है। ऐसे में कई हलकों में बेहतर माहौल बनाकर पार्टी से टिकट की मांग करने वालों की लॉटरी लग सकती है। कई टिकटों में बदलाव होगा तो वहीं कुछ विधायकों के भी टिकट कट सकते हैं। अब भाजपा की अगली बैठक पर सभी की नजरें टिक गई हैं। सूत्र बताते हैं कि मीटिंग में 68 सीटों पर गहन चर्चा की गई है, क्योंकि अधिकतर सीटों पर ज्यादा दावेदार होने के चलते किसी एक के नाम पर सहमति बनाने में मुश्किलें आ रही हैं। सूत्र बताते हैं कि टिकटों को लेकर कई तरह की पेचीदगियां हैं, जिस कारण टिकटों पर फैसला होने में देरी लग रही है। हालांकि बुधवार की श्रीनयनादेवी मीटिंग में आवेदन देने के लिए पहुंचे दावेदारों के नामों पर चर्चा नहीं की गई, बल्कि पूर्व में हुए अलग-अलग सर्वेक्षणों में सामने आए नामों पर ही गहन मंत्रण हुई है। मीटिंग में इस बात पर भी चर्चा की गई कि कई हलकों में वर्तमान विधायकों की कार्यप्रणाली से लोग नाखुश हैं, जिस कारण टिकटों में बदलाव करने पर भी चर्चा हुई। ऐसे में पार्टी से टिकट मांग रहे तेज तर्रार एवं जीतने का दम रखने वालों को मैदान में उतारा जाएगा। प्रदेश के बड़े जिलों कांगड़ा, मंडी, शिमला ही नहीं, बल्कि चार से पांच सीटों वाले जिलों में मचे घमासान का स्थायी हल निकालने की भी कोशिश हुई।

पांडे की धूमल-शांता संग आधा घंटा बैठक

सूत्रों के अनुसार कांगड़ा जैसे बड़े जिला में सहमति बनाने के लिए प्रदेश प्रभारी मंगल पांडे की धूमल और शांता कुमार के साथ बंद कमरे में करीब आधे घंटे तक बैठक हुई और सहमति बनाने का प्रयास हुआ है, क्योंकि पिछली बार की तरह अब पार्टी कांगड़ा पर रिस्क नहीं लेना चाहती। इसी जिला के दम पर भाजपा ने फिफ्टी प्लस के लक्ष्य को हासिल करने के लिए रणनीति भी तैयार की है।

सीएम कैंडीडेट पर चर्चा

प्रदेशाध्यक्ष सतपाल सत्ती ने मीडिया में टिकटों पर फैसले के लिए अगले सप्ताह बैठक के आयोजन की बात कही है, जबकि सीएम कैंडीडेट का फैसला केंद्रीय हाइकमान पर छोड़ दिया। इतना जरूर कहा कि पूछेंगे तो जरूर सीएम कैंडीडेट का नाम सुझाएंगे। सत्ती के बयान के आधार पर माना जा रहा है कि बुधवार की मीटिंग में सीएम कैंडिडेट के नाम पर भी आपसी सहमति बना ली है।

You might also like
?>