himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

रोहतांग टनल के दोनों छोर जुड़े

आज विधिवत ऐलान करेगी कंपनी, अब पूरा साल देश और दुनिया से जुड़ेगा लाहुल

newsकुल्लू— देश की महत्त्वपूर्ण रोहतांग सुरंग के दोनों  छोर मिलने से छह महीने तक विश्व से कटा रहने वाला लाहुल हमेशा के लिए दुनिया से जुड़ जाएगा। बुधवार देर शाम इसकी लास्ट ब्लास्टिंग हुई, इससे अब यह टनल कबायली इलाके को देश और दुनिया से साल भर जोड़े रखेगी। मिली सूचना के अनुसार टनल के दोनों छोर अब पूरी तरह से आपस में जुड़ गए है। हालांकि बुधवार को इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हो पाई, लेकिन रोहतांग टनल के निर्माण से जुड़े कर्नल प्रशिक्षित ने बताया कि गुरुवार को इसकी आधिकारिक सूचना सभी को दे दी जाएगी। हालांकि इससे पहले 25 अक्तूबर तक दोनों छोर के जुड़ने की बात कही जा रही थी, लेकिन जिस तेजी से टनल का कार्य हुआ, उससे समय से पहले ही इसके दोनों छोर जोड़ दिए गए।  अब पूरी सेफ्टी चैक करने के बाद रोहतांग टनल के अधिकारियों की ओर से गुरुवार को इसको हरी झंडी मिल जाएगी। लास्ट ब्लास्टिंग के बाद बुधवार को रोहतांग टनल के कार्य में जुटी कंपनियां भी अब और तेजी से शेष बचे काम को अंजाम दे रही हैं। गौर हो कि वर्ष 2010 में रोहतांग टनल का काम शुरू हुआ था। हालांकि 2015 में इसे बनाने का लक्ष्य था, लेकिन टनल बनाने के काम के दौरान आई दिक्कत के चलते टनल का कार्य आगे बढ़ गया, जिसके चलते अब  2018 में भले ही दोनों छोर मिलने वाले हैं, लेकिन टनल पूरी तरह से 2019 में ही तैयार हो जाएगी।

अटल-अर्जुन गोपाल टनल हो नाम

लाहुलवासियों छेरिंग दोरजे, चंद्रमोहन परशिरा, मोहन सिंह, अशोक कुमार, राजेंद्र कुमार ,संगीता शाशनी का कहना है कि रोहतांग टनल का नाम उस व्यक्ति के नाम पर होना चाहिए, जिसने टनल बनाने को लेकर पहल की। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समक्ष अपना पक्ष रखा।  लोगों की मानें तो रोहतांग टनल को बनाने में लाहुल के अर्जुन गोपाल सहित अनके अन्य साथियों का महत्त्वपूर्ण योगदान है। ऐसे में टनल का नाम अटल टनल और अर्जुन गोपाल का नाम भी इसमें शामिल होना चाहिए, जिन्होंने लाहुल के लिए एक अच्छी पहल की शुरुआत की।

You might also like
?>