himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

सीएम के चेहरे कई, पर नेतृत्व वीरभद्र का

आनंद शर्मा बोले, जो वर्तमान मुख्यमंत्री होता है, वही होता है उम्मीदवार

शिमला  – कांग्रेस मौजूदा सीएम वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में विधानसभा चुनाव लड़ेगी। यह बात पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं राज्यसभा में पार्टी के उपनेता आनंद शर्मा ने कही। उन्होंने कहा कि हालांकि हिमाचल में सीएम पद के चेहरे तो बहुत हैं, लेकिन चुनाव वीरभद्र सिंह की अगवाई में लड़ा जाएगा। शिमला  में पत्रकार वार्ता के दौरान आनंद शर्मा ने कहा कि जब भी कोई सरकार चुनाव में उतरती है तो उसके मौजूदा मुख्यमंत्री को पेश किया जाता है। हिमाचल में भी ऐसा ही है। राज्य में कांग्रेस सरकार का नेतृत्व वीरभद्र सिंह कर रहे हैं तो जाहिर है कि उनको ही भावी मुख्यमंत्री पेश किया जाएगा। उन्होंने कहा कि में मुख्यमंत्री, प्रदेशाध्यक्ष सुखविंदर सुक्खू सहित सभी नेता एकजुट होकर चुनाव लड़ेंगे। एक परिवार से एक को टिकट पर उन्होंने कहा कि यह पार्टी की केंद्रीय चयन समीति तय करेगी। उन्होंने युवाओं को टिकट देने का भी संकेत दिया और कहा कि टिकट बांटते वक्त संतुलन रखा जाएगा। श्री शर्मा ने सीएम कैंडीडेट घोषित न करने पर भाजपा को आड़े हाथ लिया। उन्होंने सवाल किया है कि आखिर भाजपा हिमाचल में सीएम का उम्मीदवार क्यों घोषित नहीं कर रही, जबकि गुजरात में वह इसकी घोषणा कर चुकी है। भाजपा में कभी धूमल, कभी नड्डा तो कभी किसी और का नाम लिया जा रहा है, लेकिन पार्टी हाइकमान द्वारा कुछ भी साफ नहीं किया जा रहा। मुख्यमंत्री पर लगे कथित भ्रष्टाचार के आरोपों का आनंद शर्मा ने बचाव करते हुए कहा कि ये अदालत के विचाराधीन है। इस पर कुछ नहीं कहा जाएगा।

नोटबंदी-जीएसटी से बिगड़ी अर्थव्यवस्था

शिमला— आनंद शर्मा ने मौजूदा अर्थव्यवस्था को लेकर मोदी सरकार को भी घेरा। उन्होंने कहा कि आनंद शर्मा ने कहा है कि प्रधानमंत्री द्वारा पहले नोटबंदी और फिर जल्दबाजी में जीएसटी लागू करने के फैसले से देश की अर्थव्यवस्था बुरी तरह से प्रभावित हुई है। देश में रोजगार, निवेश और औद्योगिक विकास गिरा है। निवेश सात फीसदी गिरकर 26.9 फीसदी तक दो दशक के सबसे निचले स्तर पर गया है। व्यापार और निर्यात में भी भारी गिरावट आई है। दिवाली के लिए जहां लोगों में उत्सव का माहौल होता था, वहीं अबकी बार वह गायब है। आनंद शर्मा ने कहा कि प्रधानमंत्री ने हर साल दो करोड़ रोजगार देने का वादा किया था, लेकिन उल्टे रोजगार छिन गया है।

You might also like
?>