himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

हिमाचल में चुनाव नौ नवंबर को

सभी 68 सीटों पर एक चरण में वोटिंग; 18 दिसंबर को आएंगे चुनाव परिणाम, आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू

नई दिल्ली — हिमाचल प्रदेश विधानसभा की सभी 68 सीटों के लिए चुनाव एक चरण में  नौ नवंबर को होगा और मतगणना 18 दिसंबर को की जाएगी। मुख्य चुनाव आयुक्त एके ज्योति ने गुरुवार शाम करीब साढ़ चार बजे यहां संवाददाता सम्मेलन में बताया कि हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अधिसूचना 16 अक्तूबर को जारी की जाएगी। उम्मीदवार 23 अक्तूबर तक नामांकर पत्र दायर कर सकेंगे और 24 अक्तूबर को नामांकन पत्रों की जांच की जाएगी तथा 26 अक्तूबर तक नाम वापस लिए जा सकेंगे। उन्होंने बताया कि राज्य में कुल 7521 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे और सभी इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) के साथ वीवीपैट का इस्तेमाल किया जाएगा, जिससे मतदाता यह देख सकेगा कि उसने जिस उम्मीदवार के नाम का बटन दबाया है, वोट उसी को मिला है या नहीं। उन्होंने कहा कि सभी 68 सीटों पर एक-एक मतदान केंद्र के वीवीपैट से निकलने वाली पर्चियों की भी गिनती की जाएगी और उसका मिलान उस मतदान केंद्र पर पड़े वोटों से किया जाएगा।  श्री ज्योति ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में तत्काल प्रभाव से आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू हो गई है। चुनाव के लिए सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किए गए हैं और राज्य पुलिस के साथ-साथ अर्द्धसैनिक बलों की बड़ी संख्या में तैनाती की जाएगी। उन्होंने कहा कि 136 मतदान केंद्रों पर केवल महिला चुनावकर्मी ही तैनात होंगी। आयोग ने आश्चर्यजनक रूप से गुरुवार को गुजरात विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं किया। चुनवा आयोग ने गुजरात चुनावों पर इतना ही कहा कि वहां 18 दिसंबर से पहले चुनाव कराए जाएंगे, जिससे कि दोनों राज्यों में वोटों की गिनती एक साथ हो सके। यह कहे जाने पर कि एक तरफ चुनाव आयोग सभी विधानसभाओं और लोकसभा का चुनाव साथ-साथ करने के लिए तैयार होने की बात कर रहा है और दूसरी तरफ हिमाचल और गुजरात के चुनाव साथ-साथ नहीं करा रहा, मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि पहले भी कई बार हिमाचल और गुजरात के चुनाव अलग-अलग समय पर हुए हैं। हिमाचल में चुनाव इसलिए पहले कराया जा रहा कि क्योंकि वहां पर 15 नवंबर के बाद हिमपात शुरू हो जाता है और ऐसे में वहां चुनाव करवाने में मुश्किल होनी थी।

यूं रखी जाएगी नजर

एक कैंडिडेट के चुनावी खर्च की सीमा 28 लाख रुपए है। चुनाव का रिजल्ट आने के 30 दिन के भीतर कैंडिडेट को खर्च का ब्योरा रिटर्निंग अफसर को देना होगा। पेड न्यूज और विज्ञापनों पर नजर रखी जाएगी। बल्क एसएमएस और व्वायस मैसेज पर भी नजर रहेगी। इसके अलावा वोटिंग, नामांकन, रैलियों, जुलूस और काउंटिंग हॉल की वीडियोग्राफी की जाएगी।

4905677 मतदाता बनाएंगे नई सरकार

मुख्य चुनाव आयुक्त एके ज्योति ने कहा कि हिमाचल में कुल 49 लाख पांच हजार 677 मतदाता हैं। चुनाव में उम्मीदवार के लिए खर्च की अधिकतम सीमा 28 लाख रुपए है। सभी 68 सीटों पर प्रत्येक मतदान केंद्र के वीवीपैट से निकलने वाली पर्चियों की भी गिनती की जाएगी। कुल 68 सीटों में से 17 अनुसूचित जाति और तीन अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित हैं।

गुजरात चुनाव की घोषणा नहीं, परिणाम 18 दिसंबर को ही आएंगे

चुनाव आयोग ने गुरुवार को गुजरात विधानसभा चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं किया, लेकिन कहा कि वहां 18 दिसंबर से पहले चुनाव कराए जाएंगे। इसके बाद दोनों राज्यों में चुनाव परिणाम एक साथ ही घोषित किए जाएंगे। हिमाचल के साथ गुजरात चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं होने पर कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि ऐसा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कहने पर किया जा रहा है, क्योंकि पीएम 16 अक्तूबर को गुजरात जाने वाले हैं। हालांकि चुनाव आयोग ने स्पष्ट किया है कि गुजरात चुनाव की तारीखों का ऐलान नहीं होने का पीएम के दौरे से कोई संबंध नहीं है। आयोग के सूत्रों के अनुसार वहां अगले हफ्ते डेट की घोषणा होगी। हिमाचल में चुनाव इसलिए पहले कराया जा रहा कि क्योंकि वहां पर 15 नवंबर के बाद हिमपात शुरू हो जाता है।

You might also like
?>