भारत में तेजी से बढ़ रहे अमीर

नई दिल्ली— भारत की कुल घरेलू संपदा पांच ट्रिल्यन अमरीकी डालर (326987 अरब रुपए) हो चुकी है। भारत में 2.45 लाख लोग करोड़पति हैं। एक ताजा रिपोर्ट में यह बात कही गई है। 2022 तक देश में अति धनवान लोगों की संख्या 3.72 लाख होने की संभावना जताई गई है, जबकि कुल घरेलू संपदा 7.5 फीसदी प्रतिवर्ष बढ़ते हुए 7.1 ट्रिल्यन डालर (464322 अरब रुपए) हो जाएगी। क्रेडिट स्विस ग्लोबल वेल्थ रिपोर्ट के मुताबिक, वर्ष 2000 से भारत में लोगों की संपत्ति हर साल 9.9 फीसदी की गति से बढ़ी है, जो वैश्विक औसत छह फीसदी से अधिक है। भारतीयों की संपत्ति में 451 अरब डालर की वृद्धि हुई है और सर्वाधिक धन हासिल करने के मामले में इसका स्थान दुनिया में 8वां है। रिपोर्ट में कहा गया है, एक तरफ भारत में धन-दौलत में तेजी से वृद्धि हो रही है, लेकिन इसमें हर आदमी शामिल नहीं है। यहां अभी भी काफी गरीबी है, जो इस तथ्य से जाहिर होता है कि 92 फीसदी व्यस्क जनसंख्या के पास दस हजार डालर (653975 रुपए) से कम संपत्ति है। दूसरे छोर पर केवल 0.5 फीसदी लोगों के पास एक लाख डालर (6539750 रुपए) से अधिक की संपत्ति है। हालांकि भारत की विशाल जनसंख्या की वजह से यह 42 लाख लोगों में तबदील हो जाता है। भारत में 340000 लोग ऐसे हैं, जो दुनिया के सबसे धनवान एक फीसदी लोगों में है। रिपोर्ट के मुताबिक 1820 भारतीयों के पास पांच करोड़ डालर से अधिक दौलत है। 760 लोग दस करोड़ डालर के मालिक हैं।

You might also like