himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

हिमाचल के लिए अलग एजुकेशन प्लान

शिमला  — राष्ट्रीय  उच्चतर  शिक्षा प्रणाली के तहत प्रदेश के लिए नई शिक्षा योजना तैयार की जा रही है। यह योजना केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की ओर से प्रदेश के लिए तैयार की जाएगी। योजना के लिए शिक्षा विभाग की ओर से भी तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। इसी के तहत विभाग ने उच्च शिक्षा से जुडे़ संस्थानों से जरूरी जानकारी विभाग को देने के निर्देश दिए हैं। एमएचआरडी की ओर से सभी राज्यों के लिए रूसा के तहत स्टेट हायर एजुकेशन प्लान तैयार किया जा रहा है। यह प्लान तैयार करने के लिए मंत्रालय की ओर से सभी राज्यों के  उच्च शिक्षण संस्थानों से जुड़ी जानाकारी मांगी गई है। इसके लिए शिक्षा विभाग को सभी संस्थानों की जानकारी मुहैया करवाने के लिए कहा गया है। विभाग ने एचपीयू के साथ प्रदेश तकनीकी विवि, प्रदेश के सभी निजी विश्वविद्यालयों के कुलसचिवों सहित प्रदेश के सभी सरकारी और निजी कालेजों के प्राचार्यों के साथ ही निदेशक मेडिकल एजुकेशन को स्टेट हायर एजुकेशन प्लान के लिए संस्थान से जुड़ी सारी जानकारी मुहैया करवाने के निर्देश दिए हैं। संस्थानों को एक फॉरमेट भी तैयार कर के दिया गया है, जिसके अधार पर उन्हें इस प्लान के लिए जानकारी मुहैया करवानी होगी। इसके तहत शिक्षण संस्थानों को संस्थान में पंजीकृत छात्रों की कक्षा और सेमेस्टर के आधार पर कुल संख्या का ब्यौरा भेजना होगा। एससी, एसटी, ओबीसी श्रेणीवार और छात्राओं की संख्या का ब्यौरा अलग से देना होगा। इसके साथ ही संस्थान की मान्यता का ब्यौरा भी देना अनिवार्य किया गया है। इसमें संस्थान की स्थापना का वर्ष, संस्थान को नैक से मान्यता मिली है या नहीं, अगर मिली है तो मान्यता मिलने का वर्ष, साइकिल ऑफ एक्रीडिटेशन सहित कालेज के 12बी, 2 एफ के स्टेटस की जानकारी भी देनी होगी। इसमें पद का नाम और श्रेणी, कुल पद, भरे गए पद और रिक्त पडे़ पदों का ब्यौरा देना होगा। गैर शिक्षक कर्मचारियों के पदों का ब्यौरा भी इसी आधार पर  देना होगा।

हाई ब्लड प्रेशर-कैंसर से लड़ेगा सुमित का बरतन

नौणी — राजकीय उच्च विद्यालय उतारपुर, जिला कांगड़ा के नन्हे वैज्ञानिक सुमित कुमार ने ऊर्जा का संरक्षण करने वाला बहुपयोगी बरतन बनाया है। इस बरतन से निकलने वाली ऊर्जा व भाप कई प्रकार की जानलेवा बीमारियों से लड़ने में सक्षम है। सुमित का यह अविष्कार डा. वाईएस परमार नौणी विवि में आयोजित राज्य स्तरीय साइंस कांग्रेस में आकर्षण का केंद्र रहा है। सुमित कुमार ने बताया कि उनका अविष्कार कुष्ठ रोग, आंखों में रोशनी की कमी, उच्च रक्त चाप व कैंसर जैसी बिमारियों से लड़ने में सहायक है। होम्योपैथी डा. अमित ने बताया कि तांबे के पानी का सेवन करने से कुष्ठ रोग व अन्य बीमारियों से बचा जा सकता है।

30 नवंबर तक का वक्त

जानकारी मिलने के बाद निदेशालय की ओर से सभी संस्थानों की जानकारी पर आधारित रिपोर्ट बनाकर केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय की दि स्टेट हायर एजुकेशन प्लान के लिए दी जाएगी। संस्थानों को 30 नवंबर तक का समय दिया गया है। निदेशालय की ओर से रिपोर्ट मिलने के बाद एमएचआरडी की ओर से राज्य के लिए रूसा के तहत शॉर्ट, मिडीयम और लांग टर्म एजुकेशन प्लान तैयार किया जाएगा। संस्थानों को सारी जानकारी शिक्षण संस्थानों को रूसा डॉट एचपी एट दि रेट जीमेल डॉट कॉम पर देनी होगी।

You might also like
?>