himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

एम्स से होकर गुजरेगा मटौर-शिमला फोरलेन

हमीरपुर— धर्मशाला-शिमला फोरलेन में दो बड़े बदलाव हुए हैं। इस फोरलेन को मटौर के समीप कछियारी तक सीमित कर दिया है। मटौर से धर्मशाला तक के 15 किलोमीटर के हाई-वे को फोरलेन की डीपीआर से बाहर रखा गया है। फोरलेन की लाइनमेंट में दूसरा बड़ा बदलाव घुमारवीं से ब्रह्मपुखर के बीच किया गया है। इसके तहत फोरलेन की जद से कंदरौर-घाघस-जुखाला के बीच 30 किलोमीटर लंबा मार्ग बाहर हो जाएगा। कंदरौर से तीन किलोमीटर दूर स्थित भगेड़ चौक से फोरलेन ऋषिकेश की तरफ मुड़ जाएगा। नवोदय कोठीपुरा से होते हुए फोरलेन नौणी पहुंचेगा। इसी बीच चंडीगढ़-मनाली फोरलेन को छूते हुए मटौर-शिमला मार्ग सीधे ब्रह्मपुखर को टच करेगा। इस बदलाव के पीछे कई बड़े कारण माने जा रहे हैं।  भगेड़ चौक-कंदारौर वाया घाघस-जुखाला मार्ग की लंबाई 30 किलोमीटर के करीब है। डीपीआर में फोरलेन की लाइनमेंट भगेड़ चौक से ऋषिकेश-नौणी-नवोदय-कोठिपुरा और ब्रह्मपुखर दी गई है। इस मार्ग की लंबाई करीब 23 किलोमीटर होगी। प्रदेश में प्रस्तावित सबसे बड़े स्वास्थ्य संस्थान एम्स की स्थापना नवोदय कोठिपुरा में होगी। लिहाजा एम्स को मटौर-शिमला फोरलेन से जोड़ने का डीपीआर में प्रावधान किया गया है। इसके अलावा इस नई लाइनमेंट में चंडीगढ़-मनाली-शिमला फोरलेन भी जुड़ता है। लिहाजा इस फोरलेन को भगेड़ चौक से सीधा नौणी जोड़ने का डीपीआर में प्रावधान किया गया है। इससे दूरी कम होगी और निर्माण कार्य की लागत भी घटेगी। एम्स को भी फोरलेन से जोड़ लिया जाएगा। हालांकि नेशनल नहाई ने कंदरौर-घाघस वाया जुखाला-ब्रह्मपुखर मार्ग को लिंक रोड के रूप में विकसित करने का डीपीआर में विकल्प है। इस मार्ग के रखरखाव का जिम्मा नहाई के पास रहेगा। मटौर-शिमला फोरलेन से धर्मशाला-बगली वाया चैतड़ू-सकोह मार्ग के बाहर होने का डीपीआर में खुलासा हुआ है। उल्लेखनीय है कि केंद्रीय भूतल एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने हमीरपुर में आयोजित एक समारोह के दौरान इस फोरलेन के निर्माण की घोषणा की थी। केंद्रीय मंत्री ने अधिकारिक ऐलान करते हुए कहा था कि मटौर-शिमला नेशनल हाई-वे को अब फोरलेन कर दिया गया है। यह फोरलेन अब मटौर की बजाय धर्मशाला तक बनेगा। छह जून, 2016 को केंद्रीय मंत्री ने घोषणा की थी कि धर्मशाला और शिमला के बीच फोरलेन बनने से दोनों शहर आपस में करीब आएंगे। केंद्रीय मंत्री की घोषणा के बाद इस मार्ग को धर्मशाला-शिमला फोरलेन का दर्जा दिया गया है। बावजूद इसके अब डीपीआर में फोरलेन की सीमा मटौर के समीप कछियारी बाइपास तक सीमित कर दी है।

You might also like
?>