himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

तीन लाख वीकली ऑफ फंसे

स्टाफ की कमी के चलते एचआरटीसी कर्मियों को नहीं मिल रही छुट्टियां

हमीरपुर  – राज्य भर में एचआरटीसी कर्मचारियों के करीब तीन लाख साप्ताहिक अवकाश लटके हुए हैं। अब निगम को कर्मचारियों के ये अवकाश पूरे करवाना भी मुश्किल हो गया है। स्टाफ की कमी के चलते यह समस्या पेश आ रही है। हालांकि अब निगम कर्मचारियों के साप्ताहिक अवकाश खत्म करने की योजना बना रहा है। जानकारी के अनुसार हिमाचल पथ परिवहन निगम में इंस्पेक्टर, ड्राइवर व कंडक्टरों को साप्ताहिक अवकाश नहीं मिल रहा है। कर्मचारियों के साप्ताहिक अवकाश का बोझ निगम पर हर माह बढ़ता जा रहा है। निगम में एक-एक कर्मचारी के 200 से 800 तक साप्ताहिक अवकाश पेंडिंग पड़े हैं। कर्मचारी भी अवकाश न मिलने से खासे हताश हैं। हालांकि कर्मचारी दिन-रात निगम की बसों में अपनी सेवाएं दे रहे हैं, फिर भी उन्हें छुट्टी नहीं मिल रही है। सूत्रों की मानें तो निगम भी कर्मचारियों के साप्ताहिक अवकाश की समस्या का हल करवाने में नाकाम हो रहा है,  क्योंकि स्टाफ की कमी के चलते कर्मचारियों के अवकाश पूरे करवाना मुश्किल हो गया है। हालांकि निगम के कर्मचारी मांग कर रहे हैं कि या तो उन्हें साप्ताहिक अवकाश के बदले भत्ता दिया जाए, नहीं तो उन्हें पूरे अवकाश दिए जाएं। कर्मचारियों की मानें तो निगम उनके साप्ताहिक अवकाश को ही खत्म करने की फिराक में है। वहीं, निगम में ऐसे भी कर्मचारी हैं, जिनकी रिटायरमेंट के लिए छह माह शेष रह गए हैं और उनके सात से आठ माह के साप्ताहिक अवकाश पेंडिंग पड़े हैं। अब ये कर्मचारी लगातार पांच-छह माह छुट्टियां भी नहीं काट सकते हैं, क्योंकि इससे निगम का कामकाज बाधित होगा।  उधर, एचआरटीसी के एमडी अशोक तिवारी का कहना है कि प्रदेश सरकार के जो रूल हैं, उन्हीं को फॉलो किया जा रहा है। कर्मचारियों के साप्ताहिक अवकाश आगे नहीं जोड़े जाएंगे। साल खत्म होते ही ये अवकाश भी खत्म हो जाएंगे। हालांकि अर्नलीव को अगले वर्ष के लिए जोड़ा जा सकता है।

You might also like
?>