हिमाचल ने केंद्र से स्वां को मांगे 220 करोड़

शिमला— हिमाचल प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद यहां की केंद्रीय योजनाओं के आगे बढ़ने की उम्मीदें जवां हो गई है। जयराम सरकार के गठन के बाद अब केंद्र सरकार से स्वां नदी तटीकरण के लिए 220 करोड़ रुपए की मांग भेजी गई है। सूत्रों के अनुसार ये क्लेम पहले 160 करोड़ का था, जिसे रिवाइज किया गया है। केंद्रीय मंत्रालय के चंडीगढ़ स्थित कार्यालय को शुक्रवार को ही हिमाचल की डिमांड का मसौदा मिला है, जिसे वहां से दिल्ली भेजा जाएगा। केंद्र सरकार स्वां तटीकरण के लिए पैसा नहीं दे रही है, लेकिन नितिन गडकरी के  जल संसाधन मंत्रालय संभालने के बाद इसमें कुछ उम्मीद जगी थी। उसके बाद अब प्रदेश में भाजपा की ही सरकार बन चुकी है, लिहाजा प्रदेश को पूरी आस है कि जल्दी ही यह पैसा केंद्र सरकार से मिल जाएगा। कुछ समय पहले ही केंद्रीय टीम ने स्वां तटीकरण के कार्यों को देखने के बाद अपनी सिफारिशें दी हैं।

इस केंद्रीय टीम ने भी माना है

कि तटीकरण के कार्य को पैसा चाहिए। इनके कहने के बाद यहां प्रदेश के आईपीएच महकमे ने 220 करोड़ रुपए का क्लेम तैयार कर भेजा है। अब देखना है कि कितनी जल्दी केंद्र सरकार से ये पैसा रिलीज होता है। स्वां तटीकरण का काम काफी समय से रुका हुआ है। इस कारण से जो काम पहले हो चुके हैं, उनको भी रिपेयरिंग की जरूरत है, परंतु पैसा नहीं है। यहां वीरभद्र सरकार ने अपने खाते से 100 करोड़ की राशि इस काम को देने के लिए कहा था, जिस पर आईपीएच विभाग ने प्रदेश के वित्त विभाग को एक प्रस्ताव भी भेजा। अभी तक यहां वित्त विभाग ने उस पर कोई कार्रवाई नहीं की, जबकि वीरभद्र सिंह ने इसकी घोषणा कर रखी थी। अधिकारियों की बैठक में इस पर विस्तार से चर्चा के बाद यह निर्णय लिया गया था। विभागीय अधिकारियों के अनुसार नया प्रस्ताव चंडीगढ़ कार्यालय को पहुंचा है, जहां से दिल्ली में मंत्रालय को जाएगा। स्वां के साथ कुछ दूसरे प्रोजेक्ट भी हैं जिनके लिए पैसा लिया जाना है। इन पर जल्दी ही प्रदेश सरकार की ओर से केंद्र को नए प्रस्ताव भेजे जाएंगे।

राज्य के आर्थिक हालात अच्छे नहीं

राज्य सरकार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है और पहले ही प्रदेश सरकार के खाते से इस काम को अधिक राशि दी जा चुकी है। ऐसे में राज्य सरकार भी पैसा नहीं दे पा रही है। इस पर अब  जो कार्य किए जाने हैं और पुराने रिपेयर के कार्य भी किए जाने हैं, उनका विस्तृत खाका तैयार किया गया है।

You might also like