एंबुलेंस के इंतजार में कोख में मर गया बच्चा

नौहराधार—एक तरफ सरकार व विभाग बेहतर स्वास्थ्य देने के अलाप का ढिंढोरा पीटते हैं ,दूसरी तरफ इतनी बड़ी लापरवाही से सोमवार को सैल घाटी गांव की एक गर्भवती महिला को 108 एंबुलेंस सेवा न मिलने से उसके नवजात शिशु की मौत हो गई है। बच्चे की पेट में ही मौत हो गई। बच्चे की मौत होने से परिजनों व सैल निवासियों में विभाग व सरकार के प्रति भारी रोष व्याप्त है। जानकारी के अनुसार सोमवार सुबह करीब 10 बजे घाटी गांव की मोनिका पत्नी कुलदीप को अचानक प्रसव की पीड़ा उठ गई। पीड़ा उठते ही कुलदीप ने तुरंत 108 नंबर डायल कर एंबुलेंस के लिए कॉल की। 108 से कुलदीप को जवाब मिला कि नौहराधार की एंबुलेंस किसी अन्य मरीज के लिए गई है। फिर दूसरी कॉल हरिपुरधार की गई। जवाब मिला कि जो एंबुलेंस पीएचसी में है, किसी तकनीकी खराबी के कारण खड़ी है। इसलिए हम यह सेवा आपको उपलब्ध नहीं करवा सकते। कुलदीप ने मजबूर होकर एक प्राइवेट टैक्सी से अपनी पत्नी को राजगढ़ ले गया। राजगढ़ पहुंचकर उसने एक बार फिर 108 पर कॉल करके राजगढ़ से ही एंबुलेंस उपलब्ध करवाने की मांग की। वहां पर भी एंबुलेंस नहीं मिली। फिर सोलन में पीड़ा इतनी अधिक लगी कि पेट में ही बच्चे की मृत्यु हो गई। कुलदीप ने बताया कि यदि थोड़ी देर और होती तो डाक्टर के अनुसार मां के लिए भी खतरा पैदा हो सकता था। गौर रहे कि जिला सिरमौर के दुर्गम क्षेत्रों में अधिकतर एंबुलेंस खटारा हैं। किसी के टायर खत्म हैं ,किसी में तकनीकी खराबी है। हैरानी की बात है कि नौहराधार सीएचसी होते हुए भी प्रसव की कोई सुविधा नहीं है। न ही नौहराधार अस्पताल में बेड की सविधा है। सितंबर, 2016 में पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने अस्पताल का भवन का विधिवत शिलान्यास किया है, लेकिन आज तक इस भवन में एक ईंट तक नहीं लगी। यदि नौहराधार में इंतजाम होता तो बच्चे की जान बच सकती थी। गौरतलब है कि नौहराधार सीएचसी में दिन की 100 से ज्यादा ओपीडी होती है तथा यह अस्पताल करीब 22 पंचायतों का केंद्र बिंदु है। इसके अलावा जिला शिमला के कुपवी के लोग भी इस अस्पताल में अपना इलाज करवाने आते हैं, परंतु इस अस्पताल में सुविधा न के बराबर है। हालांकि डाक्टर तीन मौजूद हैं, लेकिन बिना सुविधा के यह बेबस है। लोगों ने सरकार से मांग की है कि यहां पर सुविधा दी जाए, ताकि अन्य किसी के साथ ऐसा न हो। उधर जीवीकेईएमआई कंपनी के जिला प्रभारी आकाशदीप ने बताया कि उनके पास एंबुलेंस के खराब होने की कोई जानकारी नहीं है। उन्होंने बताया कि इस बारे में जल्द ही पूछताछ करके जानकारी हासिल की जाएगी।

You might also like