himachal pradesh news, himachal pradesh top stories, himachal pradesh tourism

नाहन हॉस्पिटल में कैंसर का फ्री इलाज

नाहन— देश के नामी मेडिकल कालेजों की तर्ज पर अब नाहन में खुला डा. वाईएस परमार मेडिकल कालेज भी उस श्रेणी में शामिल हो गया है, जहां कैंसर के मरीजों को ठीक किया जाएगा। मेडिकल कालेज नाहन में भी अब कैंसर के रोग से पीडि़त रोगियों को निःशुल्क उपचार मिलेगा। आईजीएमसी-टीएमसी-नेरचौक मेडिकल कालेज के बाद नाहन स्थित मेडिकल कालेज में भी कैंसर के मरीजों की निःशुल्क कीमोथैरेपी की जाएगी। इसके अलावा कैंसर के रोगियों को सरकार की ओर से निःशुल्क दवाइयां भी दी जाएंगी। मेडिकल कालेज नाहन में इसके लिए बाकायदा कैंसर रोग विशेषज्ञ की तैनाती हो गई है तथा दो बैड का एक कक्ष तैयार कर लिया गया है। इस कक्ष में कैंसर के मरीजों का जहां उपचार किया जाएगा, वहीं उन्हें कीमोथैरेपी भी दी जाएगी। नाहन मेडिकल कालेज में कैंसर रोग विशेषज्ञ डा. मुकेश शर्मा की तैनाती हुई है। उनकी तैनाती के बाद करीब छह कैंसर के ऐसे पुराने रोगियों ने नाहन में उपचार लेना शुरू कर दिया है, जो बाहरी राज्यों से उपचार करवा रहे थे। वर्तमान में सिरमौर के कैंसर के रोगियों को उपचार के लिए पीजीआई चंडीगढ़, देहरादून व देश के अन्य राज्यों में महंगी दरों पर उपचार करवाना पड़ रहा है। खासकर उन मरीजों को अधिक परेशानी से जूझना पड़ता था, जो आर्थिक रूप से कमजोर थे। नाहन मेडिकल कालेज में कैंसर के रोग की उपचार की सुविधा शुरू होने से सिरमौर के उन लोगों को इसका लाभ मिलेगा, जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं तथा बाहरी राज्यों से उपचार करवा रहे थे। जिला के लोगों को मेडिकल कालेज नाहन में कैंसर के उपचार की सुविधा आरंभ होने से एक उम्मीद की किरण जगी है। डा. वाईएस परमार मेडिकल कालेज नाहन के कैंसर रोग विशेषज्ञ डा. मुकेश शर्मा ने बताया कि फिलहाल पांच से छह मरीजों का उपचार शुरू कर दिया गया है। फिलहाल पुराने मरीज कीमोथैरेपी के लिए आ रहे हैं, जिनका उपचार बाहरी राज्यों से चल रहा था। खबर की पुष्टि मेडिकल कालेज के वरिष्ठ विकित्सा अधीक्षक डा.केके पराशर ने दी।

हर 21 दिन बाद 40 हजार का खर्चा

कैंसर से जूझ रहे रोगियों के लिए कीमोथैरेपी व दवाइयां निःशुल्क मिलेंगी। निजी क्लीनिक में कीमोथैरेपी पर प्रत्येक 21 दिन बाद करीब 20 से 40 हजार रुपए का खर्च आता था, जो नाहन में अब निःशुल्क मिलेगा। कैंसर रोग विभाग में कैंसर विशेषज्ञ के अलावा एक वार्ड सिस्टर व दो स्टाफ नर्स की तैनाती भी की गई है।

You might also like
?>