चाबहार प्रोजेक्ट पर चालबाजी

ईरान ने पाकिस्तान और चीन को भी शामिल होने का दिया ऑफर

नई दिल्ली – भारत ने पाकिस्तान को साइडलाइन करने के लिए जिस चाबहार प्रोजेक्ट को विकसित करना शुरू किया, अब ईरान ने पाकिस्तान और चीन को भी उसमें शामिल होने का ऑफर दे दिया है। पाक मीडिया का दावा है कि ईरान के विदेश मंत्री ने दोनों देशों को यह प्रस्ताव दिया है। दरअसल, इस पोर्ट के निर्माण को भारत की एक बड़ी उपलब्धि के तौर पर देखा जा रहा है, क्योंकि इससे रणनीतिक लाभ होने जा रहा है। सबसे बड़ा फायदा अफगानिस्तान और मध्य-एशिया के देशों तक भारत की पहुंच है। इस पोर्ट की मदद से भारत अब पाकिस्तान से गुजरे बिना ही अफगानिस्तान पहुंच सकता है। रिपोर्ट के मुताबिक ईरान के विदेश मंत्री जवाद जरीफ ने पाक और चीन को चाबहार सीपोर्ट प्रोजेक्ट में शामिल होने का न्योता दिया। यही नहीं, ईरान ने कहा है कि चाबहार से ग्वादर पोर्ट के बीच लिंक के विकास के लिए भी पाकिस्तान आगे आए। दरअसल, जरीफ ईरानी पोर्ट में भारत के शामिल होने को लेकर जताई गई पाकिस्तान की चिंताओं को दूर करना चाहते हैं। जरीफ तीन दिनों के लिए पाकिस्तान के दौरे पर हैं। जरीफ ने इस्लामाबाद में इंस्टीच्यूट ऑफ स्ट्रैटिजिक स्टडीज में एक लेक्चर के दौरान कहा कि हमने चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारे (सीपीईसी) में शामिल होने की बात कही है। इसके साथ ही हमने पाकिस्तान और चीन को भी चाबहार में शामिल होने का ऑफर दिया है। गौरतलब है कि चाबहार को भारत और ईरान के संबंधों में सक्सेस स्टोरी के तौर पर देखा जा रहा है। दक्षिण-पूर्व ईरान में भारत द्वारा विकसित किए जा रहे चाबहार पोर्ट के पहले फेज का उद्घाटन पिछले साल दिसंबर में किया गया था। इस पोर्ट ने भारत, ईरान और अफगानिस्तान के बीच एक नया स्ट्रैटिजिक ट्रांजिट रूट खोल दिया, जिसमें पाकिस्तान को पूरी तरह से दरकिनार कर दिया गया।

You might also like