जयराम सरकार बेचेगी 28 पावर प्रोजेक्ट

1835.4 मेगावाट की हैं परियोजनाएं, 50 हजार प्रति मेगावाट चार्ज करेगी सरकार

शिमला – जयराम सरकार अपने कार्यकाल में पहली दफा बिजली परियोजनाओं को निजी क्षेत्र को बेचने जा रही है। सरकार ने पहली बार में ही 28 परियोजनाओं की बिक्री का निर्णय लिया है, जिनकी कुल क्षमता 1835.4 मेगावाट की है। सरकार इनके लिए 21 मार्च से बिडिंग फार्म बेचना शुरू करेगी और बिडिंग की आखिरी तारीख चार मई रखी गई है। जानकारी के अनुसार इन प्रोजेक्टों के लिए 50 हजार रुपए प्रति मेगावाट अधिकतम 25 लाख की प्रोसेसिंग फीस ली जाएगी, जो कि नॉन रिफंडएबल होगी। ये परियोजनाएं अलग-अलग नदी बेसिन पर हैं, जिनमें चिनाब, रावी, मुख्य हैं। इसके अलावा कई प्रोजेक्ट खड्डों पर भी हैं। कुछ परियोजनाएं ऐसी हैं, जिनके लिए ऊर्जा निदेशालय पांच लाख रुपए अलग से लेगा, क्योंकि इनकी विस्तृत परियोजना रिपोर्ट पहले से तैयार की जा चुकी है। पच्चीस मेगावाट के प्रोजेक्ट के लिए आवेदनकर्ता को एक लाख रुपए बिड डॉक्यूमेंट के लिए देने होंगे, जबकि इससे ऊपर की क्षमता के प्रोजेक्ट के लिए दो लाख रुपए का बिड डाक्यूमेंट मिलेगा।

इन परियोजनाओं का होगा आबंटन

साल-एक 6.5 मेगावाट, खौली-दो 6.0 मेगावाट, चोबिया-एक 14.0 मेगावाट व डुगर 449.0 मेगावाट रावी व चिनाब बेसिन पर बनने वाले प्रोजेक्ट हैं, जिनकी विस्तृत परियोजना रिपोर्ट पहले से तैयार है। इनके अलावा जो दूसरे प्रोजेक्ट हैं, उनमें  सेली 400 मेगावाट, बरदंग 138, पुरथी 210, मी-7.5, धेड़ा 8.9, धेड़ा-एक 9.4, झनकार 24.5, कुटोई 6.2, गलवत 12.8, ऊर-एक 5.8 मेगावाट, जोकि चिनाब के प्रोजेक्ट हैं। दूसरी ओर नोगली टॉप 8.4, वांगर-दो 36.9, डुलिंग 8.4, तागला 63.6, रोपा चरण-दो व तीन 205, ललूणी 19.5, खलिहण 19.1, मनालसू 21.9, लारा सुमटा 48, सुमते  कोथांग 62, रोपा टॉप 12, वांगर 10, सेरी रावला सात मेगावाट तथा ग्यामथिंग-एक 15 मेगावाट शामिल हैं। इनमें कुछ प्रोजेक्ट खड्डों पर हैं तो दो परियोजनाएं सतलुज नदी पर आधारित बताई जाती हैं।  ये परियोजनाएं किन्नौर, कुल्लू और शिमला में प्रस्तावित हैं।

पूर्व सरकार ने भी करवाई थी बिडिंग

पूर्व सरकार ने भी इन प्रोजेक्टों के लिए कई दफा बिडिंग करवाई थी, लेकिन तब निवेशकों ने रुझान नहीं दिखाया। बार-बार बिडिंग के बाद भी कोई नहीं आया, लिहाजा अब नई सरकार ने भी यहां प्रोजेक्टों के आबंटन को नई शर्तों पर देने का काम शुरू किया है। देखना होगा कि अबकी बार कितने आवेदन इनके लिए आते हैं।

You might also like