भोटा चौकी का आईओ सस्पेंड

मारपीट मामले में एफआरआई दर्ज न करने पर गिरी गाज

हमीरपुर – बुजुर्ग दंपति से मारपीट मामले को दबाने पर संबंधित जांच अधिकारी पर विभागीय गाज गिरी है। जांच में पाया गया कि मामले के आईओ ने एफआईआर दर्ज नहीं की। हालांकि पुलिस उच्चाधिकारियों ने प्राथमिक दर्ज करने के निर्देश जारी किए थे। निर्देशों की अवहेलना करने पर भोटा चौकी के जांच अधिकारी को सस्पेंड किया गया है। अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक हमीरपुर ने एफआईआर दर्ज करने के निर्देश जारी किए थे। बीती 17 फरवरी को जारी निर्देशों के बावजूद मामला दर्ज नहीं किया गया। आईओ के सस्पेंड होने के बाद अब मामले की जांच एडिशनल एसपी हमीरपुर बलवीर सिंह कर रहे हैं। पुलिस प्रबंधन की मानें तो मामले में एफआईआर दर्ज करने की बजाए इसे दबाने का प्रयास किया गया। मामले में संबंधित आईओ की संलिप्तता पाई गई। इसके बाद यह कार्रवाई की गई है। बताते चलें कि राकेश कुमार निवासी निक्कू गांव कुढाव  ने शिकायत में बताया कि मारपीट में  इसके माता-पिता को गंभीर चोटें आई हैं। उसने बताया कि मेरे पिता की टांगों पर गंभीर जख्म हो गए व माता की बाजू टूट गई। शिकायत के बावजूद पुलिस ने इसमें कोई कार्रवाई नहीं की। राकेश ने बताया कि 16 फरवरी को पुलिस से मामले की जांच के लिए पुलिस को बुलाया। पुलिस के सामने ही आरोपी व पूर्व प्रधान ने पुलिस के सामने चौराहे पर घेर कर उन्हें धमकाया। उसने बताया कि उपायुक्त हमीरपुर से भी शिकायत की जा चुकी है। इसके बाद पुलिस 27 फरवरी को बयान दर्ज करने आई लेकिन आरोपियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज नहीं की गई। मामला पुलिस अधीक्षक के संज्ञान में आने के बाद मामले के जांच अधिकारी (हैड कांस्टेबल )को तुरंत प्रभाव से सस्पेंड कर दिया गया है। पुलिस अधीक्षक  रमन कुमार मीणा ने खबर की पुष्टि की है।

You might also like