स्टीम इंजन से तारादेवी के जंगलों में आग  

 शोघी — शिमला-कालका हेरिटेज रेल मार्ग पर तारादेवी-शिलगांव के जंगल में स्टीम इंजन के धुंएं के साथ निकली चिंगारियों से काफी आग लग गई। यह हादसा बीते सोमवार 10 से 11 बजे के बीच में पेश आया। जंगल में लगी इस आग से यहां के जंगल का आठ से दस हेक्टेयर हिस्सा चपेट में आने से काफी नुकसान हुआ है और बड़ी मुश्किल से मंगलवार को इस आग पर काबू पाया गया। आग को लेकर ग्रामीणों में काफी रोष है क्योंकि इससे जंगल में घासनियों पेड़ों में लगी आग से भारी नुकसान हो गया। आनंदपुर पंचायत के प्रधान महेंद्र ने बताया की स्टीम इंजन में कोयले के जलने से निकले धुएं में निकली चिंगारियों से तारादेवी शिलगांव के जंगल में आग लगी है। 90 नंबर सुरंग के आसपास के जंगल में यह आग लगने से भारी वन सपंदा, पेड़ पौधों व जंगली जानवरों सहित कीड़े मकौड़े को भी नुकसान हुआ है। गौतरलब है कि वर्ल्ड  हेरिटेज यूनेस्को कालका-शिमला रेल मार्ग से जुड़ा हुआ है। विदेशी पर्यटकों के लिए चलाई गई स्टीम इंजन की यह रेल ग्रामीणों के लिए मुसीबत बन गई है। इससे ग्रामीण परेशान है। प्रधान महेंद्र ने बताया कि फोरेस्ट विभाग के कर्मिचों व स्थानीय लोगों ने कल देर रात बड़ी मुश्किल से आग पर  काबू पाया है। रेल  विभाग के अधिकारियों को चाहिए कि कुछ ऐसे इंतजाम करने चाहिए कि स्टीम इंजन से जंगल में आग न लगे। इसके लिए पानी के टैंक की व्यवस्था होनी चाहिए, ताकि तुरंत आग पर काबू पाया जा सके। उन्होंने बताया कि पंचायत में प्रस्ताव पास कर रेल विभाग, प्रदेश सरकार व रेल मंत्री  को भेज कर अवगत करवाया जाएगा। जल्द ही एफआईआर रेलवे पर करने पर भी विचार हो रहा है। कुछ वर्ष पहले भी आग लग चुकी है।

You might also like