अपराध को संरक्षण नहीं

मुख्यमंत्री ने कठुआ—उन्नाव मामले पर जताई चिंता

शिमला – मुख्ममंत्री ने साफ कहा है कि उनकी सरकार ऐसे किसी भी ऐसे व्यक्ति को राजनीतिक संरक्षण नहीं देगी, जिसने कोई अपराध किया हो। मुख्यमंत्री ने यह बात शिमला में राज्य स्तरीय हिमाचल दिवस समारोह के मौके पर पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कही। मुख्यमंत्री ने कठुआ और उन्नाव मामलों पर चिंता जताई और कहा कि इन मामलों में आरोपियों को राजनीतिक सरंक्षण देना गलत है। सीएम ने कहा कि अपराध में संलिप्त लोगों के बचाने का प्रयास नहीं किया जाना चाहिए और जो अपराधी है, उसको कानून के अनुसार सजा मिलनी ही चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि उपरोक्त दोनों मामलों की जांच चल रही है। देश में महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। ऐसे में हिमाचल भी महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराधों मामलों से अछूता नहीं रहा है। इसे देखते हुए राज्य में उनकी सरकार महिलाओं के खिलाफ होने वाली आपराधिक घटनाओं को रोकने के लिए कदम उठा रही है। राज्य सरकार पूरा प्रयास कर रही है कि इस तरह की महिलाओं के खिलाफ होने वाली अपराधिक घटनाओं पर पूरी तरह से अंकुश लगाया जाए। बता दें कि राज्य की नई भाजपा सरकार ने सत्ता में आते ही गुडि़या हेल्पलाइन शुरु की है। इसके लिए शिमला में पुलिस मुख्यालय में कंट्रोल रूम बनाया गया है। कोई भी महिला टोल फ्री नंबर-1515 पर ऐसी शिकायतों की सूचना दे सकती है। पुलिस मुख्यालय द्वारा इन शिकायतों पर होने वाली कार्रवाई की स्टेटस रिपोर्ट सबंधित थानों और पुलिस अधीक्षकों से मांगी जा रही है। इसके अलावा शक्ति ऐप भी लांच की गई है।

जीवनसंगी की तलाश हैतो आज ही भारत  मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें– निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

You might also like