कश्मीर पर पाक ठंडा

पड़ोसी देश के आर्मी चीफ ने सभी मुद्दे सुलझाने के लिए किया बातचीत का समर्थन

इस्लामाबाद – लंबे समय तक कड़वी भाषा बोलने के बाद अब पाकिस्तान के सुर ढीले पड़ते दिख रहे हैं। इसका अंदाजा पाकिस्तान के आर्मी चीफ के बयान से लगाया जा सकता है। पाक आर्मी चीफ जनरल कमर जावेद बाजवा ने कहा है कि भारत और पाकिस्तान के विवादित मुद्दों, जिनमें कश्मीर मुद्दा भी शामिल है, को बातचीत के जरिए सुलझाया जा सकता है। पाक आर्मी चीफ का यह बयान ऐसे समय पर आया है, जब विभिन्न अंतरराष्ट्रीय मंचों पर आतंकवाद और कश्मीर मुद्दे को लेकर पाक को मुंह की खानी पड़ी है। ऐसे में बाजवा के इस बयान को कश्मीर मुद्दे पर नरम पड़े सुर के तौर पर देखा जा रहा है। काकुल में पाकिस्तान सैन्य अकादमी के कैडेट्स की पासिंग आउट परेड के दौरान पाक आर्मी चीफ ने यह बात कही। यह जानकारी पाकिस्तान की आर्म्ड फोर्स की मीडिया विंग इंटर-सर्विस पब्लिक रिलेशंज (आईएसपीआर) के हवाले से मिली है। बाजवा ने कहा कि हमारा बेहद ईमानदारी से मानना है कि कश्मीर मुद््रदे सहित भारत और पाकिस्तान के विवादों का शांतिपूर्ण समाधान निकाला जा सकता है। यह व्यापक और सार्थक बातचीत से ही संभव है। हालांकि यह बातचीत किसी एक पक्ष के लिए नहीं है, लेकिन यह पूरे क्षेत्र में शांति की अनिवार्यता जरूरी है। पाकिस्तान इस तरह की बातचीत के लिए प्रतिबद्ध है, लेकिन सिर्फ सार्वभौम समानता और सम्मान के आधार पर। कैडेट्स को संबोधित करते हुए बाजवा ने कहा कि पाकिस्तान शांतिप्रिय देश है और सभी देशों के साथ सामंजस्य और शांतिपूर्ण सहयोग चाहता है, खास तौर पर अपने पड़ोसी देशों के साथ। हालांकि उन्होंने कहा कि शांति की इस इच्छा को किसी भी सूरत में कमजोरी का प्रतीक नहीं समझा जाना चाहिए। हमारी सेनाएं किसी भी परिस्थिति से निपटने और उसका मुंहतोड़ जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

भारत की भी राय कुछ ऐसी ही

भारतीय सेना के प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने रविवार को कहा कि सीमा पर गोलाबारी से कुछ भी हासिल नहीं होगा। भारत और पाकिस्तान के बीच शांति होगी, तभी सभी मामलों का हल बातचीत से संभव हो पाएगा। वह सोमवार से शुरू होने वाली भारतीय थल सेना की छह दिवसीय बैठक से पहले मीडिया से मुखातिब थे।

जीवनसंगी की तलाश हैतो आज ही भारत  मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें– निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

 

You might also like