हिमाचल दिवस पर गिनाईं सरकार की उपलब्धियां

शिमला में राज्य स्तरीय समारोह में बोले मुख्यमंत्री, प्रदेश में नए युग का हुआ सूत्रपात

शिमला – 71वां हिमाचल दिवस रविवार को पूरे प्रदेश में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। इस मौके पर प्रदेश भर में कार्यक्रम आयोजित किए गए। राज्य, जिला तथा उपमंडल स्तर पर राष्ट्रीय ध्वज फहराया गया व पुलिस, होमगार्ड, एनसीसी, एनएसएस तथा स्काउट एवं गाइड की टुकडि़यों द्वारा भव्य मार्चपास्ट प्रस्तुत किया गया। राज्य स्तरीय समारोह शिमला के ऐतिहासिक रिज मैदान पर आयोजित किया गया। मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने यहां राष्ट्रीय ध्वज फहराया तथा पुलिस भारतीय रिजर्व बटालियन, होमगार्ड, एनसीसी की टुकडि़यों से सलामी ली। पुलिस उपाधीक्षक अमित ठाकुर ने परेड का नेतृत्व किया। वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हिमाचल दिवस पर प्रदेशवासियों को बधाई दी। प्रधानमंत्री ने ट्विटर के माध्यम से यह बधाई संदेश दिया है। शिमला में राज्यस्तरीय समारोह में मुख्यमंत्री ने लोगों को हिमाचल दिवस की बधाई दी और प्रदेशवासियों की उज्ज्वल भविष्य व खुशहाली की कामना की। उन्होंने कहा कि एयर कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए राज्य में पांच नए हेलिपैड का निर्माण किया जाएगा। वहीं, राज्य में शिक्षा के क्षेत्र में कई कदम उठाए जा रहे हैं। सरकार द्वारा मुख्यमंत्री आदर्श विद्या केंद्र नामक एक नई योजना आरंभ की जा रही है। इसके तहत चरणबद्ध तरीके से सभी विधानसभा क्षेत्रों में, जहां नवोदय विद्यालय तथा एकलव्य विद्यालय नहीं हैं, वहां पर छात्रावास सुविधाओं के साथ आदर्श विद्यालय स्थापित किए जाएंगे। सरकार बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए चिकित्सकों की भर्ती कर रही है। मुख्यमंत्री ने कहा कि सरकार ने कृषि गतिविधियों में विविधता लाने के लिए प्रभावी कदम उठाए हैं। सिंचाई सुविधाओं के कार्यान्वयन तथा जीरो बजट आधारित प्राकृतिक खेती व जैविक खेती को बढ़ावा दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि 25 करोड़ रुपए की एक नई योजना प्राकृतिक खेती-खुशहाल किसान कार्यान्वित की जाएगी, जिसके अंतर्गत जैविक खेती को प्रोत्साहन दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश को देश का औद्योगिक हब बनाना प्रदेश सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में है। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल के दौरान 456.43 करोड़ रुपए के निवेश की 17 औद्योगिक इकाइयों को एकल खिड़की अनुश्रवण प्राधिकरण द्वारा स्वीकृति प्रदान की गई है। मुख्यमंत्री ने कहा है कि राज्य सरकार ने ऐसे वरिष्ठ नागरिक, जिन्हें अन्य कोई पेंशन प्राप्त नहीं हो रही है, उनकी वृद्धावस्था पेंशन की आयु सीमा को बिना (किसी आय सीमा के) 80 वर्ष से घटाकर 70 वर्ष किया है। इस फैसले से करीब एक लाख 30 हजार वृद्धजन लाभान्वित हुए हैं। उन्होंने कहा कि महिलाओं की सुरक्षा व राज्य में कानून व्यवस्था बनाए रखना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है। जयराम ठाकुर ने कहा कि राज्य में ‘मुख्यमंत्री डैशबोर्ड’ को आरंभ किया गया है और सभी मुख्य विभागों को इससे जोड़ा गया है, जिससे प्रशासन में दक्षता आई है। उन्होंने कहा कि वर्ष 2018-19 के बजट में समाज के सभी वर्गों के कल्याण के लिए 30 नई योजनाएं आरंभ की गई है, जो अपने आप में एक रिकार्ड है। उन्होंने कहा कि सड़कों की टायरिंग व रख-रखाव के लिए 100 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं। राज्य में 123 सड़कों की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार कर ली गई है। सरकार द्वारा हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना आरंभ की गई है। इसके तहत उन परिवारों की गृहिणियों को रसोई गैस सिलेंडरों की जमा राशि तथा गैस चूल्हों के लिए आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी, जो केंद्र सरकार की उज्ज्वला योजना में शामिल नहीं है। मुख्यमंत्री ने हाल ही में नूरपुर के नजदीक हुई स्कूल बस दुर्घटना पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोकने के लिए सभी आवश्यक कदम उठाए जा रहे हैं।

जीवनसंगी की तलाश हैतो आज ही भारत  मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें– निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन करे!

You might also like