आलू-मटर, गोभी मुरझाए

किसान चिंतित, फसलें बर्बाद होने का सताने लगा डर

शिमला — प्रदेश में बेमौसमी बारिश-ओलावृष्टि के बाद अब सूखे की मार फसलों पर पड़ने लगी है। खासतौर पर आलू, मटर और गोभी पर सूखे की मार अधिक पड़ रही है। सूखे से खेतों में बीजी गई आलू व मटर की फसलें पीली पड़ चुकी हैं, जिससे किसान खासे चिंतित हैं। प्रदेश के कम और मध्यम ऊंचाई वाले क्षेत्रों में किसान सूखे की समस्या झेल रहे हैं। एक सप्ताह के दौरान खिली तेज धूप ने ही खेतों में बिजी गई आलू व मटर की फसल पर कहर बरपा दिया है। नमी की कमी के चलते आलू व मटर की फसल पीली पड़ गई है जिससे किसान निराश हैं। आलू, मटर के साथ बंद व फूलगोभी पर भी सूखे की मार पड़ने लगी है। खासतौर राज्य के उन क्षेत्रों में किसान उक्त समस्या अधिक झेल रहे हैं जहां किसानों के पास सिंचाई का कोई साधन नहीं है। बताते चले कि प्रदेश में विंटर सीजन के दौरान सामान्य से कम बारिश हुई थी। विंटर सीजन में सामान्य से 50 फीसदी कम बारिश हुई थी जिसका असर एक सप्ताह की चटक धूप में ही दिखने लगा है। किसानों का कहना है कि अगर जल्द ही बारिश नहीं होती है तो उनकी पूरी मेहनत पर पानी फिर जाएगा। मटर की फसल को तो ओलावृष्टि के बाद सूखे से भारी नुकसान पहुंच चुका है। अगर आगामी दिनों में बारिश नहीं होती है तो आलू की फसल को भी भारी नुक्सान पहुंचने का अनुमान लगाया जा रहा है।  मौसम विभाग के पूर्वानुमान के तहत प्रदेश के अधिकतर क्षेत्रों में मई माह के आखिर में बारिश की कम संभावना है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर-  निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!

You might also like