कर्नाटक में भाजपा सरकार

राज्यपाल ने दिया न्योता, बीएस येदियुरप्पा आज लेंगे मुख्यमंत्री पद की शपथ

बंगलूर— कर्नाटक विधानसभा चुनाव के त्रिशंकु परिणाम और सरकार बनाने के दांव-पेच के बीच बुधवार शाम कोराज्यपाल वजुभाई वाला ने राज्य की सबसे बड़ी पार्टी भाजपा को सरकार बनाने का न्योता दे दिया है। भाजपा को 21 मई तक बहुमत साबित करने को कहा गया है। भाजपा नेता बीएस येदियुरप्पा गुरुवार सुबह 9.30 बजे सीएम पथ की शपथ लेंगे। राज्यपाल का फैसला आने से पहले ही कर्नाटक भाजपा की तरफ से जरूर एक ट्वीट किया गया, जिसमें यह जानकारी दी गई कि गुरुवार सुबह 9.30 बजे येदियुरप्पा कर्नाटक के नए सीएम पद की शपथ लेंगे। हालांकि कुछ देर बाद इस ट्वीट को डिलीट कर दिया गया। उधर, भाजपा कर्नाटक प्रभारी और केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी सरकार बनाने का न्योता मिलने का संकेत दिया था। बता दें कि कर्नाटक चुनाव में किसी भी पार्टी को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला है। 104 सीटों के साथ भाजपा सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है, जबकि कांग्रेस  (78) और जेडीएस (38) ने मिलकर सरकार बनाने का दावा किया था। उधर, सरकार बनाने को लेकर चल रहे उठापठक के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं पी चिदंबरम और कपिल सिब्बल ने एक प्रेस कान्फें्रस कर राज्यपाल की तरफ से जेडीएस और कांग्रेस को सरकार बनाने के लिए मौका नहीं देने पर सवाल उठाए। कपिल सिब्बल ने कहा कि कोई राज्यपाल अगर संविधान का उल्लंघन करता है तो निश्चित रूप से कहीं न कहीं से तो दबाव है। मणिपुर और गोवा का उदाहरण देते हुए सिब्बल ने कहा कि चाहे गोवा हो, मणिपुर हो या फिर मेघायल हो, राज्यपाल ने बहुमत के हिसाब से सरकार बनवाई थी। यहां जेडीएस और कांग्रेस के पास बहुमत है। चिदंबरम ने कहा कि राज्यपाल ने येदियुरप्पा को सरकार बनाने के लिए बुलाया है। कांग्रेस इसके खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटा सकती है।इससे पहले जेडीएस और कांग्रेस के नेताओं ने बुधवार को कर्नाटक के राज्यपाल वजुभाई वाला से मुलाकात कर 117  विधायकों के समर्थन के दावे वाली एक सूची उन्हें सौंपी और उनसे सरकार गठन के लिए उनके दावे पर विचार करने का आग्रह किया। जेडीएस की राज्य इकाई के प्रमुख एचडी कुमारस्वामी और केपीसीसी अध्यक्ष जी परमेश्वर के नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल से मुलाकात की थी। कुमारस्वामी ने बैठक के बाद पत्रकारों से कहा कि जेडीएस और कांग्रेस के बीच चुनाव के बाद हुए समझौते और बसपा के साथ चुनाव से पहले हुए समझौते के बाद हमारे कुल 117  विधायक हैं और उनके समर्थन वाला एक पत्र राज्यपाल को सौंपा गया है। उन्होंने कहा कि दोनों पार्टियों ने अपने गठबंधन के बारे में प्रस्ताव भी राज्यपाल को सौंपा। कुमारस्वामी ने कहा कि जेडीएस के सभी विधायक पूरी तरह से हमारे साथ है। परमेश्वर ने कहा कि कांग्रेस विधायक दल की बैठक में पारित प्रस्ताव की एक प्रति राज्यपाल को सौंप दी गई है। पार्टी के सांसद टूटने की बात पर कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने कहा कि हमारा एक भी सदस्य बाहर नहीं गया है और हम ऐसी चीजें नहीं होने देंगे। कांग्रेस नेता अशोक गहलोत ने कर्नाटक में हो रही कोशिशों को लेकर कहा कि लोकतंत्र की हत्या करने वाले देश में आगे बढ़ रहे हैं और यह देश का दुर्भाग्य है। कुमारस्वामी के साथ राजभवन पहुंचे जेडीएस कार्यकर्ताओं ने भाजपा के खिलाफ प्रदर्शन भी किया।

भाजपा पर सौ करोड़ के ऑफर का आरोप

कांग्रेस भाजपा पर विधायकों को तोड़ने की कोशिश करने का आरोप लगा रही है, वहीं भाजपा का कहना है कि कांग्रेस सत्ता हथियाने के लिए बैक डोर एंट्री की कोशिश कर रही है। बुधवार को विधायक दल की बैठक के बाद जेडीएस के कुमारस्वामी ने प्रेस कान्फ्रेंस कर भाजपा पर उनके विधायकों को 100 करोड़ रुपए और मंत्रिमंडल में जगह का लालच देने का आरोप लगाया है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर-  निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!

You might also like