छठे सेमेस्टर का रिजल्ट एचपीयू के लिए चैलेंज

परीक्षा शाखा से नहीं पहुंचे छात्रों के अवार्ड, मूल्यांकन में भी देरी

शिमला — प्रदेश विश्वविद्यालय के लिए इस बार रूसा के छठे सेमेस्टर का परिणाम समय पर घोषित करना सबसे बड़ी चुनौती है। अभी तक इस सेमेस्टर के छात्रों के अवार्ड ही विवि की परीक्षा शाखा में नहीं पहुंच रहे हैं। जब तक छात्रों के आवार्ड विवि को प्राप्त नहीं होते, तब तक उनकी ऑनलाइन एंट्री नहीं हो पाएगी, जिससे परीक्षा परिणाम तैयार करने में प्रशासन सफल नहीं हो पाएगा। इस सेमेस्टर की मूल्यांकन प्रक्रिया भी इस बार विवि ने देरी से शुरू की है, जिसके चलते अब जिन उत्तर पुस्किओं का मूल्यांकन हो गया है, उनके अवार्ड भी सेंटर से विवि को नहीं भेजे जा रहे। विश्वविद्यालय हर बार इस सेमेस्टर का परीक्षा परिणाम समय पर घोषित करने को लेकर उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन भी साथ-साथ ही शुरू करवा देता था, लेकिन इस बार शिक्षकों की मांग से विवश होकर मूल्यांकन प्रक्रिया कालेजों में नहीं, बल्कि मूल्यांकन केंद्रों में करवाई जा रही है। विश्वविद्यालय की ओर से रूसा के छठे सेमेस्टर के 32 हजार से अधिक छात्रों का परिणाम समय पर घोषित करने के लिए प्रदेश के पांच मूल्यांकन केंद्रों पर मूल्यांकन की प्रक्रिया शुरू की गई है। इसके तहत तीन परीक्षा केंद्र शिमला के कोटशेरा कालेज के साथ ही सेंटर फॉर एक्सीलेंस कालेज संजौली और आएकेएमवी कालेज में तीन मूल्यांकन केंद्र और दो मूल्यांकन केंद्र मंडी और नादौन में बनाए गए हैं। इन सभी मूल्यांकन केंद्रों पर शिक्षक छात्रों की उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन कर रहे हैं। इन सभी मूल्यांकन केंद्रों में से मात्र कोटशेरा कालेज द्वारा ही अवार्ड विवि को ऑनलाइन एंट्री के लिए बाकी भेजे गए हैं। बाकी कोई भी मूल्यांकन केंद्र विवि को छात्रों के अवार्ड नहीं भेज रहा। अवार्ड एंट्री के साथ ही परीक्षा परिणाम तैयार कर घोषित करने के लिए मात्र एक महीना शेष रह गया है। जून के अंतिम सप्ताह में एचपीयू को छठे सेमेस्टर के 32 हजार से अधिक छात्रों का परिणाम घोषित करना है। विवि के परीक्षा नियंत्रक डा. जेएस नेगी ने कहा कि सभी पांच मूल्यांकन केंद्रों को ये निर्देश दे दिए गए हैं वे जल्द विवि को छात्रों के अवार्ड ऑनलाइन एंट्री के भिजवाएं।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर-  निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!

You might also like