भारती विद्यापीठ स्कूल, बैजनाथ

नवनीत डोगरा निदेशक

स्वामी विशुद्धानंद सरस्वती जी महाराज की असीम कृपा से वर्ष 2002 में मात्र 110 बच्चों से भारती विद्यापीठ स्कूल बैजनाथ की शुरुआत हुई। आज 16 वर्षों में इस शिक्षा के मंदिर में 1900 से अधिक बच्चे शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। दूसरी तरफ भारती विद्यापीठ पूरे प्रदेश में शिक्षा के क्षेत्र में अलग पहचान बनाए हुए है। 16 कनाल भूमि पर बैजनाथ के प्रीतनगर (गणेश बाजार) में स्थित 50 खुले हवादार कमरों सहित भौतिक, रसायन और जीव विज्ञान की प्रयोगशालाओंं, संगीत कक्ष, ऑडियो विजुअल कक्ष तथा एक विशाल आधुनिक हाल से सुसज्जित स्कूल अपनी अलग पहचान बनाए हुए है। विद्यार्थियों को खेलने के लिए विशाल मैदान, जिसमें बास्केटबाल के दो मैदान, वालीबाल के दो तथा बैडमिंटन के दो मैदान उपलब्ध हैं। छोटे बच्चों के लिए झूले की व्यवस्था अलग से है। स्कूल भवन में छात्र-छात्राओं के लिए अलग-अलग शौचालयों, पीने के पानी की अलग-अलग व्यवस्था है। यही नहीं, छोटे-छोटे बच्चों के लिए चार आया वर्कर व नर्सरी, केजी कक्षा में हर वर्ग में दो-दो अध्यापिकाएं बच्चों के सर्वांगीण विकास के लिए प्रयासरत हैं। स्कूल में दो हजार किताबों तथा 25 पत्रिकाओं से लैस एक पुस्तकालय  भी बच्चों के ज्ञान में बढ़ोतरी प्रदान कर रहा है।भारती विद्यापीठ में 70 प्रशिक्षित अध्यापकों की टीम बच्चों को शिक्षा ग्रहण करवाती है। पढ़ाई के साथ-साथ एक्सीड कंपनी द्वारा तैयार किया (पढ़ाई खेल- खेल में) पाठ्यक्रम भी बच्चों को स्मार्ट क्लास के माध्यम से पढ़ाया जा रहा है। इस स्कूल के परिणाम हर वर्ष शत-प्रतिशत रहते हैं। अभी तक इस स्कूल के पिछले आठ वर्षों के कार्यकाल में हिमाचल प्रदेश स्कूल शिक्षा बोर्ड में 17 विद्यार्थियों ने पूरे प्रदेश में पहले दस स्थानों पर कब्जा जमाया है। यही नहीं, प्रदेश में अभी तक स्कूल ने सर्वाधिक लैपटॉप तथा करोड़ों रुपए की छात्रवृत्तियां अपने नाम की हैं। हाल ही में जमा दो साइंस संकाय में स्कूल के चार छात्रों अक्षित डोगरा, अमनदीप, अनिषेक व आलोक ने प्रदेश भर में पांचवां, छठा, नौवां, दसवां मैरिट रैंक हासिल कर स्कूल का नाम रोशन किया है। यही नहीं, मैट्रिक परीक्षा में चारू तथा आंचल ने पांचवां व छठा मैरिट रैंक हासिल किया है। स्पेस ओलंपियाड के इसी चारू ने इसरो बंगलूर तथा नेशनल साइंस सेंटर दिल्ली में चयनित होकर वैज्ञानिकों के साथ अनुभव साझा किए और प्रशिक्षण प्राप्त किया। वर्ष 2017 जुलाई माह में भारती विद्यापीठ का छह विद्यार्थियों का एक दल स्कूल के निदेशक नवनीत डोगरा के नेतृत्व में इंग्लैंड के लंदन में स्थित एलथम हिल स्कूल में अंतरराष्ट्रीय कल्चर एक्सचेंज कार्यक्रम के तहत 12 दिनों तक स्कूल में प्रशिक्षण प्राप्त किया। भारती विद्यापीठ स्कूल के निदेशक नवनीत डोगरा को सर्वश्रेष्ठ प्रधानाचार्य पुरस्कार से पालमपुर में सेंट सोल्जर ग्रुप द्वारा नवाजा गया तथा इसी वर्ष दिल्ली में आयोजित इस कार्यक्रम में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा ट्रांसफार्मिंग एजुकेशन अवार्ड द्वारा 25 हजार रुपए व प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित भी किया गया। भारती विद्यापीठ स्कूल बैजनाथ क्षेत्र के लिए शिक्षा प्रदान करने में निरंतर प्रयासरत है तथा हर वर्ष नई तथा आधुनिक शिक्षा प्रणाली पर बल देकर बच्चों के उज्ज्वल भविष्य के लिए निरंतर प्रयासरत है।

चमन डोहरू, बैजनाथ

You might also like