मेहनत की नई तकनीक

इंटरनेट के माध्यम से संबंधित विषयों पर शिक्षकों का लेक्चर सुना करता था। फिर उसे अपने दिमाग में दोहराया करता था। रात को जब काम से मौका मिलता था तो उस समय मैं कोर्स को फिर दोहरा लेता था…

सफलता प्राप्त करने के लिए कठिन मेहनत हमेशा से सबसे बड़ी तकनीक रही है। यदि ललक हो और उसे पूरा करने के लिए मेहनत करने का जज्बा हो, तो विपरीत से विपरीत परिस्थिति में भी सफलता के रास्ते खोज लिए जाते हैं।  एरणाकुलम स्टेशन पर कुली का काम करने वाले श्रीनाथ की कहानी कुछ ऐसी ही है।

उन्होंने रेलवे स्टेशन पर उपलब्ध मुफ्त वाई-फाई सुविधा का लाभ उठाते हुए इंटरनेट के जरिए पढ़ाई करके केरल पब्लिक सर्विस कमीशन (केपीएससी) की लिखित परीक्षा पास कर ली है।

श्रीनाथ की कहानी बताती है कि यदि सफलता प्राप्त करने की मजबूत मनःस्थिति हो तो परिस्थितियां अपने आप मंजिल तक पहुंचने का रास्ता दे देती हैं। श्रीनाथ की सफलता इंटरनेट के उपयोग-दुरुपयोग की बहस को भी एक कदम आगे लेकर जाती है। सफलता प्राप्त करने के लिए श्रीनाथ ने अपने स्मार्ट फोन और ईयरफोन हथियार बनाए।

श्रीनाथ के अनुसार इस परीक्षा में तीसरी बार शामिल हुआ, लेकिन यह पहला मौका था, जब मैंने स्टेशन पर उपलब्ध वाई-फाई सुविधा का इस्तेमाल किया।

लोगों का बोझ ढोते समय मैं हमेशा ईयरफोन कान में लगाए रहता था और इंटरनेट के माध्यम से संबंधित विषयों पर शिक्षकों का लेक्चर सुना करता था। फिर उसे अपने दिमाग में दोहराया करता था। रात को जब काम से मौका मिलता था तो उस समय मैं कोर्स को फिर दोहरा लेता था।

श्रीनाथ मन्नार के रहने वाले हैं,  एरणाकुलम उनका नजदीकी रेलवे स्टेशन है। उनका कहना है कि मुफ्त वाई-फाई सुविधा ने उनके लिए सफलता के द्वार खोल दिए। इसके कारण उन्होंने प्रश्न पत्रों का खूब अम्यास किया। ऑनलाइन परीक्षा फार्म भरने में आसानी हुई और देश-दुनिया की ताजातरीन जानकारियों से खुद को आसानी से लैस किया। श्रीनाथ के अनुसार, कुली का काम करते हुए वह और अधिक प्रतियोगी परीक्षाओं में भाग लेंगे ताकि भविष्य में बड़ा अफसर बन सकें।

 एरणाकुलम स्टेशन पर वाई-फाई की यह सुविधा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के डिजिटल इंडिया कार्यक्रम के तहत 2016 में रेलवे स्टेशनों पर उपलब्ध करवाई गई थी। मौजूदा समय में देश के 685 स्टेशनों पर यह सुविधा उपलब्ध है।

अपने सपनों के जीवनसंगी को ढूँढिये भारत  मैट्रिमोनी पर – निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!

You might also like