200 रुपए दो और शव लो

वाराणसी हादसे में इनसानियत शर्मसार, सौदेबाजी का वीडियो वायरल 

वाराणसी-  पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में फ्लाई ओवर हादसे के दूसरे दिन बुधवार को इनसानियत को शर्मसार कर देने वाला मामला सामने आया है। हादसे में मृत लोगों के शवों की सौदेबाजी का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल होने से शासन व प्रशासन में हड़कंप मच गया। सौदेबाजी करने के आरोपी सफाई कर्मचारी को निलंबित करने के साथ ही गिरफ्तार कर लिया गया है। फ्लाईओवर हादसे में जान गंवाने वालों के परिजनों का आरोप है कि बीएचयू के सर सुंदरलाल असपताल में शवगृह में तैनात सफाईकर्मी बनारसी ने शव देने के एवज में 200 रुपए की मांग की। घटना से दुखी परिजनों ने मोबाइल से इसका वीडियो बना लिया और देखते ही देखते वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। वीडियो में सफाईकर्मी परिजनों से 200 रुपए मांगते दिख रहा है। मामला संज्ञान में आते ही डीएम योगेश्वर राम मिश्र बीएचयू पहुंच गए। परिजनों से बात करने के बाद उन्होंने आरोपी को तत्काल प्रभाव से निलंबित करने के साथ ही मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई का निर्देश दिया। लंका पुलिस ने आईपीसी की धारा 384 (जबरन धन वसूली) में मुकदमा दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार किया है।

तीन मंदिर तुड़वाए, इसीलिए हुआ हादसा

मुझे जानकारी मिली है कि चुनाव से पहले फ्लाई ओवर का काम पूरा करने के लिए तीन विनायक मंदिर तोड़कर निर्माण काम पूरा किया जा रहा था। लोगों का कहना है कि यह हादसा मंदिर तोड़ने की वजह से हुआ है। यह बातें कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राज बब्बर ने कहीं। वह वाराणसी हादसे में घायल हुए लोगों से मिलने अस्पताल पहुंचे थे। राज बब्बर ने कहा कि अधिकारियों के खिलाफ तो सरकार ने कार्रवाई कर दी है, लेकिन अब कैबिनेट मंत्रियों को भी सस्पेंड किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि मृतक के परिजनों को जो पांच लाख मुआवजा दिया गया है, वह काफी नहीं है। उन्हें 50-50 रुपये लाख मुआवजा दिया जाना चाहिए।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर-  निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!

You might also like