एमडी हांगकांग में यहां मच गया बवाल

शिमला— राज्य बिजली बोर्ड लिमिटेड 14 जून को स्थापना दिवस मनाने जा रहा है। इस स्थापना दिवस को लेकर विवाद खड़ा हो गया है। दिलचस्प बात यह है कि बिजली बोर्ड के प्रबंध निदेशक इन दिनों हांगकांग में हैं और उनके पीछे से यहां बवाल मच गया है। बिजली बोर्ड कर्मचारी यूनियन ने स्थापना दिवस को लेकर विरोध जताया था, जिस पर सर्व कर्मचारी महासंघ ने पलटवार कर दिया है। सर्व कर्मचारी महासंघ स्थापना दिवस 14 जून को ही मनाने के हक में है और उसका दावा है कि दूसरी कर्मचारी यूनियन का बोर्ड में कोई अस्तित्त्व ही नहीं है। सर्व कर्मचारी महासंघ, जिसमें कई संगठन जुड़े हुए हैं, के अध्यक्ष मोहन ठाकुर व महासचिव हेम राज ने बिजली बोर्ड प्रबंधन के इस फैसले का स्वागत करते हुए कहा है कि बोर्ड के सभी कर्मचारी प्रबंधन के साथ हैं और 14 जून को ही स्थापना दिवस कार्यक्रम हर्षोल्लास के साथ मनाएंगे। इसके विपरीत कर्मचारी यूनियन ने कहा था कि 14 जून नहीं, बल्कि बोर्ड का स्थापना दिवस पहली सितंबर को मनाया जाता है। इन दिनों बिजली बोर्ड के प्रबंध निदेशक जेपी काल्टा हांगकांग की यात्रा पर हैं, जिनके पीछे से यहां किसी को भी प्रबंध निदेशक का दायित्व नहीं दिया गया है, ऐसे में अब फैसला कौन लेगा, इस पर भी संशय है। हालांकि प्रबंधन में कई दूसरे निदेशक मौजूद हैं, लेकिन इस मामले को लेकर फैसला लेने की सूरत में कोई भी नहीं है। ऐसे में बिजली बोर्ड में विवाद बढ़ने लगा है। कुल मिलाकर राज्य बिजली बोर्ड में इन दिनों यूनियनबाजी का बोलबाला है। सर्व कर्मचारी महासंघ के अध्यक्ष मोहन ठाकुर ने कहा कि महासंघ में बोर्ड की तकनीकी कर्मचारी यूनियन के साथ मिनिस्ट्रीयल सर्विस, ड्राइवर एंड ऑटो वर्कर्ज, स्टेनोग्राफर, ड्राफ्ट्समैन, ऑडिट एंड अकाउंट्स, जेई, पावर, प्रोजेक्ट इंजीनियर, एवं डिप्लोमा इंजीनियर एसोसिएशन शामिल हैं, जो कि सभी अलग-अलग संगठन हैं। ऐसे में दूसरी किसी यूनियन के कहने पर स्थापना दिवस कार्यक्रम नहीं टल सकता।

संघ की मांगों पर गौर करे बोर्ड

शिमला — हिमाचल स्नातकोत्तर अध्यापक संघ के प्रतिनिधिमंडल ने शिक्षा बोर्ड के सचिव हरीश गज्जू से मुलाकात कर उन्हें मांगों को लेकर ज्ञापन सौंपा। स्कूल प्रवक्ता संघ के अध्यक्ष चितरंजन काल्टा ने बताया कि बोर्ड के सचिव से मुलाकात कर उन्होंने मांग की है कि शिक्षकों का लंबित भत्ता बिल एवं मूल्यांकन राशि शीघ्र जारी की जाए, बोर्ड परीक्षाओं के प्रश्न पत्र वरिष्ठ अध्यापकों से तैयार करवाए जाएं, ताकि इसमें कम से कम त्रुटियां हों। परीक्षा के दौरान फ्लाइंग ड्यूटी भी वरिष्ठ अध्यापकों और अधिकारियों से करवाई जाए। संघ ने बोर्ड के सचिव से मांग की है कि इन मांगों पर जल्द गौर किया जाए।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर-  निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!

You might also like