रजनी पाटिल ने माना, कांग्रेस में गुटबाजी

पार्टी की नई प्रभारी ने कहा; मनभेद खत्म करने को लाएंगी फार्मूला, 29 से शुरू करेंगी जिलों का दौरा

शिमला— प्रदेश कांग्रेस की नई प्रभारी रजनी पाटिल ने माना है कि हिमाचल कांग्रेस गुटबाजी के भंवर में फंसी है। उन्होंने कहा कि नेताओं के बीच मनभेद हैं, जिसे दूर करने के लिए वह जल्द फार्मूला लाएंगी। गुटबाजी तो है, पर इसे व्यक्तिगत नहीं बनाना चाहिए। नेता जो भी हैं, वे पार्टी के बनाए हुए हैं, इसलिए पार्टी उनसे ऊपर है। नेताओं के बीच आपसी गुटबाजी को खत्म कर, उन्हें मनाने की कोशिशें की जाएंगी, ताकि पार्टी अपना परंपरागत वोट बैंक हासिल कर लोकसभा चुनाव जीते। शिमला में मंथन बैठक के दूसरे दिन पत्रकार वार्ता में रजनी पाटिल ने कहा कि वह पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से भी मिली हैं, जिनसे हुई बातचीत को वह राहुल गांधी से साझा करेंगी। इसके साथ दूसरे नेताओं से मिलकर उन्होंने रणनीति पर विचार किया है। उन्होंने कहा कि गुटबाजी सभी दलों में होती है, लेकिन इसका असर पार्टी पर नहीं पड़ना चाहिए। वह खुद सभी नेताओं के पास जाकर उनसे बातचीत करेंगी और सभी तरह के मसलों का निराकरण करने की कोशिशें होंगी। उन्होंने कहा कि वर्ष 2019 का लोकसभा चुनाव जीतने की चुनौती है, जिसके लिए सभी को साथ लेकर चला जाएगा। उन्होंने बताया कि 29 जून से वह प्रदेश के सभी जिलों का पहले चरण का दौरा शुरू करेंगी और अढ़ाई महीने के बाद दूसरे चरण में लोकसभा चुनाव क्षेत्र के हिसाब से बड़ी रैलियां करवाई जाएंगी, जिनमें राष्ट्रीय नेताओं को बुलाया जाएगा।

तिलमिला गए सुक्खू

संगठन को लेकर सवालों की बौछार पर घिरती दिख रहीं रजनी पाटिल का बचाव करने के लिए प्रदेश अध्यक्ष सुखविंदर सिंह आगे आए और कुछ तिलमिलाते हुए दिखे। उन्होंने मीडिया कर्मियों से उनकी पहचान पूछना ही शुरू कर दी, जिस पर प्रभारी ने उन्हें रोका।

फेरबदल राहुल करेंगे

संगठन में फेरबदल के संबंध में पूछे गए सवाल पर रजनी पाटिल ने कहा कि यह अधिकार राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी का है। फेरबदल किसी को बताकर नहीं किए जाते।

गैरहाजिरी पर सफाई

रजनी पाटिल के शिमला पहुंचने पर सीएलपी नेता मुकेश अग्निहोत्री और सह-प्रभारी रंजीत रंजन के नदारद रहने के सवाल पर सफाई देते हुए कहा कि मुकेश अग्निहोत्री प्रदेश से बाहर थे, जिन्होंने उनसे पहले की बात कर ली थी, वहीं रंजीत रंजन अपने लोकसभा क्षेत्र में व्यस्त है जिस कारण वह नहीं आ सकीं। दूसरी ओर उन्होंने कहा कि अनुशासनहीनता बर्दाश्त नहीं होगी। निष्कासित नेताओं को वापस लेने के लिए कमेटी बनाई जाएगी।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर-  निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!

You might also like