सेना में हिमाचली सितारों की चमक

ठियोग के अंकुश सेना में लेफ्टिनेंट

ठियोग — मेरा सपना साकार हुआ, जब मैंने सीडीएस यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन द्वारा निर्धारित प्रायोजित संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा पास की। ये शब्द 23 साल के अंकुश प्रेमी के हैं। ठियोग के कल्यावग गांव के अंकुश प्रेमी ने भारतीय सैन्य अकादमी देहरादून के 142वें दीक्षांत समारोह में नेपाल आर्मी चीफ जनरल राजेंद्र क्षेत्री की मौजूदगी में प्रतिष्ठित अंतिम पंग पार कर यह गौरव प्राप्त किया है। अंकुश प्रेमी दो साल से देहरादून में ट्रेनिंग कर रहे थे अभी हाल ही में वह इस प्रशिक्षण से पासआउट हुए हैं। उन्होंने 2012 में एनडीए की परीक्षा पास कर 607वां रैंक हासिल किया। इसके बाद लगातार परीक्षा देते रहे तथा यूनियन पब्लिक परीक्षा पांच बार पास की। इनके पिता मदन प्रेमी शिक्षा विभाग में प्राध्यापक माता प्रभा देवी हिमायलन पब्लिक स्कूल ठियोग में अध्यापिका के पद पर कार्यरत है।

मीनाक्षी बनीं नर्सिंग लेफ्टिनेंट

बैजनाथ — बैजनाथ के साथ लगते गांव कालाअंब निवासी मीनाक्षी वर्मा पुत्री रमेश वर्मा भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट बन गई हैं। मीनाक्षी ने प्राथमिक शिक्षा माउंट कार्मल स्कूल बैजनाथ तथा जमा दो विशुद्धा सीनियर सेकेंडरी स्कूल बैजनाथ से की। उन्होंने 2012 से 16 तक बीएससी नर्सिंग शिवालिक नर्सिंग इंस्टीच्यूट शिमला से की तथा 2017 में एसएससी टेस्ट के माध्यम से  परीक्षा पास की। वह 25 जून, 2018 को मिलिट्री हास्पिटल सिकंदराबाद, हैदराबादद्ध में मिलिट्री नर्सिंग सर्विस सेवाएं देंगी। मीनाक्षी के पिता रमेश वर्मा क्लर्क व अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ ब्लॉक पंचरुखी में उपप्रधान पद पर कार्यरत हैं, जबकि माता बनीता गृहिणी हैं। मीनाक्षी का भाई मनीष वर्मा राजीव गांधी इंजीनियरिंग कालेज नगरोटा बगवां में सिविल इंजीनियरिंग छठे सेमेस्टर की पढ़ाई कर रहा है और मीनाक्षी के दादा जगरनाथ तथा दादी क्लांसा देवी सभी ने मीनाक्षी की इस उपलब्धि से खुश हैं।

हितेश के कंधों पर लगे स्टार

सरकाघाट — सरकाघाट की ग्राम पंचायत मसेरण के गांव तारनगला के हितेश ठाकुर भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के पद पर चयनित हुए हैं। इनके पिता योगेंद्र ठाकुर और माता बबिता ठाकुर ने इनके कंधों पर भारतीय सेना के लेफ्टिनेंट के स्टार लगाए। हितेश के मुख्याध्यापक पिता योगेंद्र ठाकुर ने बताया कि आईएमए प्रशिक्षण के दौरान यह आईएमए बास्केटबाल चैंपियनशिप के कैप्टन रहे और पासआउट परेड में यह पासआउट हो रहे कैडेट्स की अग्रिम पंक्ति में शामिल हुए। हितेश ठाकुर की प्रथम नियुक्ति सेना के पठानकोट के माधोपुर में आर्मी एयर मिसाइल डिफेंस विंग रेजिमेंट में हुई है। हितेश की दादी बर्फी देवी, नानी तारो देवी, ताया जगदीश ठाकुर, नेकराम ठाकुर और मामा विनोद ठाकुर ने खुशी व्यक्त की है।

शगुन का सपना साकार

धीरा — पालमपुर के गांव घनेटा के शगुन राणा ने भारतीय सेना में कमीशन प्राप्त करने का गौरव प्राप्त करते हुए लेफ्टिनेंट पद हासिल किया है। शगुन राणा की प्रारंभिक शिक्षा सेंट स्टीफन स्कूल चंडीगढ़ में हुई है। शगुन के पिता संजय राणा एसबीआई मुंबई में सहायक जनरल मैनेजर के पद पर कार्यरत हैं, जबिक माता वंदना राणा गृहिणी हैं। उनके सेना में जाने पर परिवार में खुशी का माहौल है।

नगरोटा के प्रवेश आर्टिलरी रेजिमेंट में देंगे सेवाएं

नगरोटा बगवां — नगरोटा के भदरेड़  के प्रवेश सुपहिया लेफ्टिनेंट बने हैं। प्रवेश ने जमा दो तक की पढ़ाई राष्ट्रीय मिलिट्री स्कूल चायल में पूरी की तथा 2014 में उनका चयन एनडीए के लिए हुआ। अब प्रवेश आईएमए से पासआउट होकर सेना की आर्टिलरी रेजिमेंट में सेवाएं देंगे। प्रवेश के पिता सूबेदार मेजर पूर्ण सिंह सुपहिया भी सेना की गोरखा रायफल में सेवारत हैं, जबकि माता निशा रानी गृहणी हैं। प्रवेश के दादा प्रीतम सुपेहिया भी पुलिस विभाग से बतौर डीएसपी सेवानिवृत्त हैं।

आतिश सहगल ने ऊंचा किया सुजानपुर सैनिक स्कूल का नाम

सुजानपुर— सैनिक स्कूल सुजानपुर के 30वें बैच के छात्र आतिश सहगल ने आल इंडिया लेवल पर बेस्ट आर्मी कैडेट अवार्ड में दूसरा स्थान प्राप्त कर सिल्वर मेडल जीता है। यह सैनिक स्कूल सुजानपुर के लिए ऐतिहासिक और गर्व की बात है। ऑर्डर ऑफ मैरिट अवार्ड से नवाजे गए इस जांबाज को मद्रास रेजिमेंट मेडल से भी नवाजा गया है। वर्तमान में यह कैडेट जम्मू में सेवाएं दे रहे हैं। स्कूल रजिस्ट्रार लेफ्टिनेंट कमांडर सचिन वर्मा ने बताया कि आतिश सहगल पुत्र अनिल कुमार सहगल माता कुसुम लता सहगल निवासी घुमारवी का रहने वाले हैं। वह सैनिक स्कूल सुजानपुर के 30वें बैच के छात्र थे। एनडीए में भर्ती होने के बाद यहां से बीसीए शिक्षा प्राप्त कर बेस्ट आर्मी कैडेट इन पासिंग आउट कोर्स में उत्तीर्ण हुए और बेस्ट क्रेडिट इन पासिंग आउट प्राप्त किया। इसके बाद इंडियन मिलिट्री आर्मी में भर्ती होने के बाद इस कैडेट ने बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए ऑल इंडिया लेवल पर बेस्ट आर्मी कैडेट अवार्ड प्राप्त किया। स्कूल प्राचार्य एवं ग्रुप कैप्टन के उपप्राचार्य जसकरण सिंह परमार, स्कूल रजिस्ट्रार लेफ्टिनेंट कमांडर सचिन वर्मा ने कैडेट द्वारा इस अवार्ड को प्राप्त करने पर बधाई दी है।

अपना सही जीवनसंगी चुनिए| केवल भारत मैट्रिमोनी पर-  निःशुल्क  रजिस्ट्रेशन!

You might also like