आदर्श स्कूलों में फाइन आर्ट्स की पढ़ाई

सी एंड वी शिक्षक संघ की मांग पर शिक्षा मंत्री का ऐलान, नए सेशन से होगी शुरुआत

 मंडी— प्रदेश में नए शिक्षा सत्र से नए सत्र से केवल प्रदेश के सभी आदर्श वरिष्ठ माध्यमिक स्कूलों में फाइन आर्ट की कक्षा शुरू कर दी जाएगी। इसके अलावा शास्त्री तथा भाषा अध्यापकों को टीजीटी पदनाम देने के लिए मामला दोबारा वित्त विभाग को भेजा जाएगा, ताकि प्रदेश के समस्त शिक्षकों को लाभ प्राप्त हो सके। यह बात राजकीय सी एंड वी  अध्यापक संघ के साथ आयोजित बैठक के दौरान शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज ने कही। संघ की बैठक प्रदेशाध्यक्ष चमन शर्मा की अध्यक्षता में शिक्षा निदेशालय में आयोजित की गई। बैठक में संघ के 21 सूत्री मांगपत्र पर विस्तार से चर्चा हुई। शिक्षामंत्री ने कहा कि माध्यमिक स्कूलों में सी एंड वी अध्यापकों का युक्तिकरण नहीं होगा। जो अध्यापक डीएलएड कर रहे हैं, उन्हें शीघ्र छुट्टियों का प्रावधान किया जाएगा। शास्त्री तथा भाषा अध्यापकों को टीजीटी पदनाम देने के लिए मामला दोबारा वित्त विभाग को भेजा जाएगा। क्राफ्ट, संगीत तथा गृह विज्ञान अध्यापकों को ग्रेड-पे देने के बारे में भी मामला वित्त विभाग को भेजा जाएगा।  प्रदेशाध्यक्ष चमन लाल शर्मा ने कहा कि शिक्षा मंत्री ने संघ की प्रमुख स्थानांतरण नीति में संशोधन की मांग पर सहमति जताई है। बैठक में शिक्षा सचिव अरुण शर्मा, शिक्षा निदेशक रोहित जम्वाल, उच्च शिक्षा निदेशक अमरजीत शर्मा, शिक्षा उपसचिव वेद भूषण, संयुक्त शिक्षा निदेशक हितेश आजाद व स्टेट प्रोजेक्ट डायरेक्टर आशीष कोहली मुख्य तौर पर उपस्थित रहे। उन्होंने ने कहा कि एक प्रतिशत स्थानांतरण कोटे को बढ़ाकर पांच प्रतिशत कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि एक प्रतिशत स्थानांतरण नीति में एकमुश्त छूट नहीं दी जा सकती। बैठक में प्रदेश महासचिव राकेश संदल, मुख्य सलाहकार दुर्गा नंद, चंबा के प्रधान चत्तर सिंह सूर्यवंशी, हमीरपुर के सुरेंद्र, सोलन से कमल चंद, शिमला से नरेंद्र, बिलासपुर से कश्मीर शर्मा, मंडी से प्रह्लाद चंद, ऊना से रमन तथा कुल्लू से गोबिंद ठाकुर सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित रहे।

You might also like