एनएच, स्टेट रोड प्रोजेक्ट को मिलेगा नया मुखिया

शिमला— राज्य में नेशनल हाई-वे और स्टेट रोड प्रोजेक्ट को नया मुखिया मिलेगा। जयराम सरकार ने इन दोनों विभागों का जिम्मा ईएनसी को सौंपने का बड़ा फैसला लिया है। इसके तहत लोक निर्माण विभाग के वरिष्ठ अधिकारी इंजीनियर अशोक चौहान को ईएनसी प्रोजेक्ट लगाने की योजना है। प्रदेश मंत्रिमंडल ने ईएनसी प्रोजेक्ट का नया पद एक साल के लिए क्रिएट किया है। इस फैसले के आधार पर हिमाचल के नेशनल हाई-वे और स्टेट रोड प्रोजेक्ट विंग का जिम्मा ईएनसी प्रोजेक्ट को दिया जाएगा। वर्तमान में इन दोनों विंग के मुखिया चीफ इंजीनियर हैं। लिहाजा ईएनसी की ताजपोशी के बाद राज्य के लटके नेशनल हाई-वे प्रोजेक्टों को गति मिलने की प्रबल संभावना है। इसी तर्ज पर केंद्रीय फंड से राज्य को मिलने वाली स्टेट रोड प्रोजेक्ट परियोजनाओं के कार्यों में तेजी आएगी। अहम है कि प्रदेश सरकार ने लोक निर्माण विभाग के कार्यों की समीक्षा और गुणवत्ता का दायित्व भी ईएनसी प्रोजेक्ट के हवाले करने का फैसला लिया है। वर्तमान में चीफ इंजीनियर भवन शर्मा नेशनल हाई-वे विंग देश रहे हैं। चीफ इंजीनियर आरके वर्मा को स्टेट रोड प्रोजेक्ट का कार्यभार सौंपा गया है। इसी तर्ज पर स्टेट क्वालिटी कंट्रोल का दायित्व भी अधीक्षण अभियंता रैंक के अधिकारी के पास है। मंगलवार 24 जुलाई को आयोजित प्रदेश मंत्रिमंडल की बैठक में सरकार ने लोक निर्माण विभाग को महत्व देते हुए एक और ईएनसी का पद सृजित किया है। सरकार के इस अहम फैसले के बाद अब सड़क मार्गों और भवन पुलों की गुणवत्ता की देखरेख ईएनसी रैंक के अधिकारी के पास रहेगी। इससे विभागीय कार्य की गुणवत्ता में सुधार की संभावनाएं बढ़ जाएगी। बताते चलें कि इससे पहले ईएनसी क्वालिटी कंट्रोल का पद एक साल के लिए एक्सटेंट किया जा रहा था। राज्य में भाजपा सरकार के सत्ता में आने पर मुख्यमंत्री ने इस पद को एक्सटेंशन देने के बजाय इस पोस्ट को और प्रभावशाली बनाने के निर्देश दिए थे। इसी कड़ी में ईएनसी प्रोजेक्ट्स की नई पोस्ट क्रिएट की गई है।

चीन से सटी सीमा तक पहुंचाई सड़क

भरमौर-पांगी में जटिल परिस्थितियों में अशोक चौहान द्वारा करवाए गए कार्यों की अनूठी मिसाल पेश होती है। इसके अलावा बनीखेत, डलहौजी, कुल्लू, रामपुर और नेशनल हाई-वे शाहपुर में उनका शानदार कार्यकाल रहा है। चीफ इंजीनियर साउथ जोन शिमला में सेवाएं दे रहे अशोक चौहान ने चीन सीमा तक सड़क पहुंचाने में विशेष योगदान दिया है।

You might also like