कांग्रेस से मंडी जिप अध्यक्ष पद भी छिना

कौल सिंह की बेटी चंपा ठाकुर के खिलाफ  अविश्वास प्रस्ताव पारित

मंडी— मंडी जिला से विधानसभा चुनाव में कांग्रेस विधायकों के क्लीन स्वीप के बाद अब कांग्रेस के से मंडी जिला परिषद अध्यक्ष की कुर्सी भी छिन गई है। जिला परिषद अध्यक्ष चंपा ठाकुर के खिलाफ भाजपा सदस्यों की ओर से लाया गया अविश्वास प्रस्ताव गुरुवार को पारित हो गया। चंपा ठाकुर पूर्व स्वास्थ्य मंत्री कौल सिंह की बेटी हैं और मंडी सदर से विधानसभा चुनाव भी लड़ चुकी हैं। गौरतलब हो कि करीब अढ़ाई साल पहले चंपा ठाकुर भाजपा की पमिता शर्मा को हराकर मंडी जिला परिषद की अध्यक्ष बनी थीं। उधर, गुरुवार को अविश्वास प्रस्ताव पर हुई वोटिंग में अविश्वास प्रस्ताव के खिलाफ केवल 14, जबकि पक्ष में 20 मत पड़े। जिला परिषद उपाध्यक्ष पूर्ण ठाकुर की अध्यक्षता में मतदान से पूर्व हुई बैठक में जिला परिषद के सभी 36 सदस्य मौजूद रह। चंपा ठाकुर के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव जब लाया गया था। तब इसमें 21 सदस्यों ने भाग लिया था। भाजपा की ओर से लाए गए अविश्वास प्रस्ताव का तीन वामपंथी सदस्यों भूपेंद्र सिंह, श्याम सिंह चौहान और संतराम ने कांग्रेस के साथ मिलकर विरोध किया। इस बारे में भूपेंद्र सिंह का कहना है कि उनकी ओर से राजनीतिक आधार पर जिप अध्यक्ष का समर्थन किया गया। अब जिला परिषद अध्यक्ष के लिए होने वाले चुनाव की तिथि उपायुक्त तय करेंगे। जिला परषिद उपाध्यक्ष पूर्ण चंद ठाकुर ने बताया कि अविश्वास प्रस्ताव उनकी अध्यक्षता में हुआ। इसकी रिपोर्ट अब शुक्रवार को उपायुक्त मंडी  को दी जाएगी।

टल्ली होकर पहुंचा पार्षद

अविश्वास प्रस्ताव पर गुरुवार को वोटिंग के लिए एक सदस्य शराब के नशे में धुत्त होकर पहुंच गया। इसके बाद जिप सदस्य को वोटिंग नहीं करने दी गई। हालांकि यह खबर बाहर फैलते ही इसकी काफी चर्चा रही।

You might also like