कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन में देरी से सीएम खफा

नेशनल हाई-वे कार्यों की समीक्षा बैठक में मार्च, 2019 से पहले काम निपटाने के आदेश

शिमला— मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन के विलंब पर कड़ा संज्ञान लिया है। इस लेटलतीफी से नाराज मुख्यमंत्री ने अफसरों को कड़े तेवर दिखाते हुए परियोजना का निर्माण कार्य में गति लाने की हिदायत दी है। एनएच निर्माण कार्य की समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री ने उक्त परियोजना का निर्माण कार्य मार्च, 2019 से पहले पूरा करने का अल्टीमेटम दिया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्र सरकार ने 63 राष्ट्रीय राजमार्गों में से 58 राष्ट्रीय राजमार्गों की विस्तृत परियोजना रिपोर्ट तैयार करने के लिए प्रदेश सरकार को स्वीकृति प्रदान कर दी है। उन्होंने निर्देश दिए कि सभी राष्ट्रीय राजमार्गों की कार्य प्रक्रिया में तेजी लाई जाए, ताकि शीघ्र इनका कार्य आरम्भ किया जा सके। राज्य में 69 नए राष्ट्रीय राजमार्गों के निर्माण के बाद प्रदेश में सड़क घनत्व 125.11 प्रति हजार किलोमीटर हो जाएगा। एनएच बनने से हरियाणा, पंजाब, उत्तराखंड और दिल्ली जैसे पड़ोसी राज्यों को सेब और अन्य उत्पादों की ढुलाई के लिए वैकल्पिक मार्ग उपलब्ध होगा। कीरतपुर-नेरचौक फोरलेन राजमार्ग के निर्माण कार्य में विलंब पर असंतोष व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इस सड़क पर अतिरिक्त श्रम शक्ति और मशीनरी को तैनात कर कार्य में तेजी लाई जानी चाहिए, क्योंकि इस मार्ग पर यातायात का भारी प्रवाह है। उन्होंने एनएचएआई के अधिकारियों से परवाणु-सोलन फोरलेन के कार्य को पूरा करने के लिए कहा, ताकि मार्च, 2019 तक इसे पूरा किया जा सके। जयराम ठाकुर ने विभागीय अधिकारियों को वन और अन्य ढांचों को हटाने के बारे में त्वरित स्वीकृतियां सुनिश्चित बनाने के निर्देश दिए, ताकि राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा निष्पादित परियोजनाओं को पूरा करने में आने वाली समस्याओं से छुटकारा पाया जा सके। बैठक में अतिरिक्त मुख्य सचिव मनीषा नंदा और मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव अतिरिक्त मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी सहित लोक निर्माण विभाग के आला अधिकारी उपस्थित रहे। इसके अलावा फोरलेन तथा नेशनल हाईवे के अधिकारियों ने भी बैठक में उपस्थिति दर्ज करवाकर प्रगति रिपोर्ट प्रस्तुत की।

You might also like