दर्जन मकान-सात पशुशालाएं जमींदोज

 संगड़ाह —नागरिक उपमंडल संगड़ाह में हुई भारी बारिश के चलते शनिवार को दो पक्के व 10 कच्चे मकान भू-स्खलन की चपेट में आ गए। तहसील व एसडीएम कार्यालय से प्राप्त जानकारी मुताबिक दर्जन भर मकानों के अलावा भू-स्खलन से सात पशुशालाएं व 10 सुरक्षा दीवारें भी जमींदोज हो गई, जबकि नाले में आई बाढ़ के कारण एक पानी का घराट भी बह गया।  इसके अलावा एक व्यक्ति का खेत जहां बाढ़ की भेंट चढ़ा, वहीं एक बैल भी दबकर मर गया। उपमंडल के अंतर्गत आने वाले गांव डुंगी में जहां शनिवार प्रातः तपेंद्र सिंह नामक ग्रामीण की रसोई जमींदोज हो गई, वहीं जयपाल सिंह की पशुशाला भी ध्वस्त हो गई। गांव राणफुआ के पूर्ण चंद का घराट जहां नाले में आई बाढ़ के चलते बह गया, वहीं करीब एक बीघा का अदरक का खेत भी बाढ़ लील गई। वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला सेरतंदूला की सुरक्षा दीवार भू-स्खलन की चपेट में आने से स्कूल भवन को खतरा बना हुआ है। कार्यवाहक प्रधानाचार्य मीरा शर्मा ने बताया कि स्कूल के कार्यालय परिसर को भू-स्खलन से खतरा बना हुआ है। उन्होंने बताया कि फिलहाल क्लास रूम सुरक्षित है। क्षेत्र के गांव अरट में मोहन सिंह नामक व्यक्ति के मकान की सुरक्षा दीवार भू-स्खलन से जमींदोज होने से मकान पर खतरा बरकरार है। इससे पूर्व क्षेत्र के गांव पालर, शिवपुर व भवाही में भी भू-स्खलन से मकान क्षतिग्रस्त हो चुके हैं। तहसीलदार एवं एसडीएम कार्यालय संगड़ाह से प्राप्त जानकारी के अनुसार शनिवार को संगड़ाह में 110 एमएम बारिश हुई तथा उपमंडल में भू-स्खलन से शनिवार को करीब 14,41,000 की संपत्ति के नुकसान की रिपोर्ट उपायुक्त सिरमौर को भेजी गई है। आईपीएच विभाग के कनिष्ठ अभियंता संतोष कुमार के अनुसार बारिश व भू-स्खलन से उपमंडल में विभाग को करीब 58 लाख का नुकसान हुआ है।

 

You might also like