दिन में हुई गंगा आरती, 26 साल में दूसरी बार टूटी परंपरा

वाराणसी — काशी में सायंकालीन दैनिक गंगा आरती की पंरपरा 26 साल में दूसरी बार टूट गई है। दरअसल, शुक्रवार को सदी का सबसे लंबा चंद्र ग्रहण होने के कारण दोपहर 2.55 बजे सूतक लग रहे थे। इसके बाद देवालयों में पूजा आदि नहीं हो सकती थी। लिहाजा, सायंकालीन आरती को दोपहर एक बजे में ही कर दिया गया। पौराणिक मान्याताओं के अनुसार ग्रहण के सूतक काल में सभी देवालयों के कपाट बंद कर दिए जाते हैं। इसी वजह से गंगा आरती के समय में भी बदलाव किया गया…

You might also like