धर्मशाला में कैलाश एसोसिएशन दोफाड़

सर्वसम्मति से हुए चुनाव, दूसरा गुट रद्द करवाने को अड़ा, उपायुक्त कांगड़ा को भी सौंपा ज्ञापन

धर्मशाला – पीजी कालेज धर्मशाला में गद्दी समुदाय से संबंध रखने वाले छात्रों की कैलाश एसोसिएशन पूरी तरह से दोफाड़ हो गई है। एक गुट ने सर्वसम्मति से चुनाव करवाकर कार्यकारिणी घोषित कर दी। वहीं अब दूसरा गुट सर्वसम्मति से हुए चुनावों का कड़ा विरोध करते हुए रद्द करवाने में जुट गया है। इसके चलते कालेज के छात्र अधिक संख्या में उपायुक्त कांगड़ा को भी ज्ञापन सौंपने पहुंच गए हैं। कैलाश एसोसिएशन के सर्वसम्मति से हुए चुनाव पर्ची सिस्टम से किए गए हैं, जो कि अब बड़ा सवालिया निशान उठा रहे हैं। राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय धर्मशाला में जिला कांगड़ा-चंबा, हमीरपुर सहित अन्य जिलों से गद्दी समुदाय से संबंध रखने वाले छात्रों को संगठित करने के लिए कैलाश एसोसिएशन बनाई गई थी। इसके तहत गद्दी समुदाय के छात्र एसोसिएशन के विभिन्न कार्यक्रमों से समुदाय को आगे बढ़ाने का प्रयास करते हैं। पूर्व के वर्ष में भी दोनों गुटों ने एक-दूसरे के सामने आकर चुनावों का बहिष्कार तक किया। अब इस बार भी कैलाश एसोसिएशन के पदाधिकारी बनने और बनाने के लिए दो गुट आमने-सामने हो गए हैं। शुक्रवार को पीजी कालेज धर्मशाला की एसोसिएशन का मुद्दा गरमाते हुए उपायुक्त कार्यालय कांगड़ा तक पहुंच गया। सैकड़ों छात्रों द्वारा चुनाव रद्द करवाने के लिए नारेबाजी कर उपायुक्त को ज्ञापन देने पहुंचे थे। इससे अब कैलाश एसोसिएशन के पूर्व पदाधिकारियों के अत्यधिक हस्तक्षेप और मौजूदा छात्रों की कार्यप्रणाली पर भी बड़े सवाल उठ रहे हैं।

नरेंद्र को सर्वसम्मति से बनाया अध्यक्ष

कैलाश एसोसिएशन के जनरल हाउस का आयोजन किया गया। इसमें कैलाश एसोसिएशन के पूर्व प्रधान नरेश ललहाल, कुलदीप पठानिया, सुनील बरसैण, कमल ठाकुर, नैंसी व अन्य सदस्यों की अध्यक्षता में नए पैनल का गठन किया गया। इसमें सर्वसम्मति से कैलाश एसोसिएशन की कार्यकारिणी का गठन किया गया। इसमें अध्यक्ष पद के लिए चार छात्रों के नाम की पर्ची डालकर नरेंद्र कुमार बीकॉम अंतिम वर्ष के छात्र को वर्ष 2018-19 के लिए  कैलाश एसोसिएशन का अध्यक्ष, अश्वनी कुमार को उप-प्रधान,  वर्षा राजपूत को महासचिव, मोनिका व कार्तिक को ज्वाइंट सेक्रेटरी चुना गया।

डीसी से उठाई चुनाव रद्द करने की मांग

गद्दी समुदाय के छात्रों में से शिल्पा, नेहा, पल्लवी, मोनिका, ज्योति, शिव -भट्ट, विजय जरियाल, रोहित, साजन और अक्षय का कहना है कि नियमों के विपरीत ही कैलाश ऐसोसिएशन का गठन किया गया है। इसमें पूर्व सदस्यों की एक कमेटी ने पदाधिकारियों के इंटरव्यू भी लिए हैं, ऐसा इससे पहले कभी नहीं हुआ है।

You might also like