नाहन मेडिकल कालेज में घुसा पानी

नाहन – सिरमौर जिला के नाहन स्थित डा. वाईएस परमार मेडिकल कालेज एवं अस्पताल के कैंपस में स्थित देश की जानी मानी मेडिकल क्षेत्र में कार्यरत एसआरएल लैब में भारी बारिश से पानी व फंगस होने से सभी प्रकार के टेस्ट बंद पड़े हैं। सैकड़ों की संख्या में जिला के विभिन्न हिस्सों से आने वाले मरीज दो दिनों से बेहाल हैं। हालत यह है कि मेडिकल कालेज की अपनी लैब की अधिकांश मशीनरी जहां खराब पड़ी है, वहीं इस बात पर भी सवालिया निशान लगता है कि चौबीस घंटे आपातकालीन सेवाएं देने वाला मेडिकल कालेज क्या सरकारी लैब के केवल दो घंटे खुलने से चल सकता है। हैरानी की बात तो यह है कि मेडिकल कालेज की अपनी सरकारी लैब मात्र दो घंटे ही खुलती है। प्रयोगशाला में करीब डेढ़ दर्जन कर्मियों का स्टाफ है जिनका लाखों रुपए का वेतन सरकार पर प्रतिमाह पड़ रहा है। ऐसे में मेडिकल कालेज के कैंपस में मरीजों को चौबीस घंटे सेवाएं दे रही एसआरएल प्रयोगशाला के दो दिनों से टेस्ट न करने से टेस्ट की व्यवस्था धड़ाम हो गई है। दो दिनों से लगातार हो रही बारिश से एसआरएल लैब की दीवारों में चारों ओर से पानी घुस गया है, जिस वजह से प्रयोगशाला की दीवारों पर चारों ओर फंगस पैदा हो गया है। प्रयोगशाला में फंगस होने की वजह से सभी प्रकार के टेस्ट पर भी संकट पैदा हो गया है। जानकारों की मानें तो मेडिकल कालेज के टेस्ट फंगस की वजह से सीधेतौर पर प्रभावित होते हैं, जिससे टेस्ट की रिपोर्ट के रिजल्ट भी सही नहीं आते हैं। यही नहीं मरीजों के जो सैंपल लिए जाते हैं उन पर भी फंगस का नेगेटिव प्रभाव पड़ता है।  हैरानी की बात तो यह है कि दो वर्ष बाद भी मेडिकल कालेज में मूलभूत सुविधाओं का अभाव है। मेडिकल कालेज में जिला भर से आने वाले मरीजों की संख्या में दो वर्षों में पांच से छह गुणा इजाफा हुआ है। औसतन प्रतिदिन नाहन मेडिकल कालेज में अढ़ाई से तीन हजार मरीज जिला के विभिन्न हिस्सों से पहुंचते हैं। स्थानीय एसआरएल लैब के प्रतिनिधियों ने बताया कि प्रयोगशाला में पानी के रिसाव से फंगस पैदा हो गया है जिस कारण दो दिनों से टेस्ट नहीं हो रहे हैं। इसकी सूचना एसआरएल मुख्यालय व मेडिकल कालेज प्रशासन को दे दी गई है।

 

You might also like