बारिश-हड़ताल का कोकटेल…सेब तुड़ान ठप

रामपुर बुशहर – रामपुर व आसपास के सेब बाहुल क्षेत्रों में हो रही लगातार बारिश ने सेब बागबानों की धुकधुकी बढ़ा दी है। वहीं दूसरी और ट्रांसपोर्ट की हड़ताल होने से बागबानों को सेब मंडियों तक पहुंचाने के लिए ट्रक भी नहीं मिल रहे हैं। ऐसे में बागबानों को उनकी नकदी फसल की चिंता सताने लगी है कि कहीं उनकी सेब की फसल में ड्रापिंग शुरू न हो जाए। बीते दो दिनों से हो रही बारिश के चलते निचले क्षेत्र के बागबान सेब का तुड़ान रोकने को मजबूर हो गए हैं। उन्हें चिंता हो रही कि यदि बारिश रूकती नहीं है तो उन्हें आर्थिक नुकसान उठाना पड़ सकता है। निचले क्षेत्रों में सेब की फसल तैयार है। जिसे अधिक दिनों तक पेड़ों पर नहीं रखा जा सकता। अगर तय समय से अधिक दिनों तक सेब को पेड़ों में रखा तो वह ड्राप होना शुरू हो जाते है। वहीं दुसरी और ट्रक की देश व्यापी हड़ताल ने बागबानों की चिंता को और बढ़ा दी है। बागबान रूप सिंह, चंद्र सिंह, सुंदर सिंह, मेला दयाल सिंह आदि का कहना है कि इस वर्ष सेब की फसल पहले ही मौसम की बेरुखी के चलते उम्मीद से कम हुई है। मौसम के सेब के अनुकूल न बनने से पहले ही काफी नुकसान हुआ था, उसके बाद जो थोड़ी बहुत उम्मीद बनी थी, उस पर बरसात पानी फेर रही है। वहीं दूसरी ओर ट्रकों की हड़ताल होने से बागबानों को परेशानी बढ़ा दी है। बागबान मजबूरी में छोटे वाहनों का प्रयोग कर छोटी मंडियों में जैसे तैसे अपना सेब पहुंचा रहे है। लेकिन वहां पर भी हड़ताल का हवाला देकर सेब को अच्छे दाम पर नहीं खरीदा जा रहा है। ऐसे में बागबानों की मांग है कि जल्द से जल्द ट्रकों की हड़ताल को समाप्त किया जाए।

You might also like