ब्यास का रौद्र रूप देख भागे प्रवासी

भुंतर —भारी बारिश और मणिकर्ण में आए नाले के कारण रौद्र रूप धारण कर ब्यास-पार्वती ने दरिया के किनारे रहने वाले लोगों के लिए अलर्ट जारी कर दिया है। जिला के भुंतर में ब्यास खतरे के निशान के पास जा पहुंची है। यहां पर रह रहे प्रवासियों को बोरिया-बिस्तर समेटने को मजबूर कर दिया है। गुरुवार को हुई भारी बारिश के बाद कई प्रवासियों ने यहां पर अपने अस्थयी आशियानों को उठा दरिया से दूर इंतजाम कर लिए, वहीं कई ब्यास के खतरनाक तट पर ही दोपहर बाद भी डटे हुए थे। प्रशासन ने खराब मौसम को देख प्रवासियों और दरिया के किनारे रहने वाले लोगों को अलर्ट जारी किया है और किसी भी प्रकार का खतरा मोल न लेने का फैसला लिया है। गुरुवार को सुबह से ही जिला भर में मौसम खराब रहा और मूसलाधार बारिश दिन भर होती रही। जिला के मणिकर्ण में ब्रह्मगंगा नाला उफान पर आ गया और इसके कारण पार्वती का स्तर बढ़ गया है। जिला में मौसम ने पिछले दिनों से करवट ली है और ऐसे में किसानों-बागबानों को राहत मिली है। हालांकि मार्केट में सब्जी और फलों को लाने में दिक्कतों का सामना जरूर करना पड़ रहा है, लेकिन फसलों के लिए संजीवनी बन बारिश आ रही है। खराब मौसम को देख प्रशासन ने लोनिवि, आईपीएच और बिजली बोर्ड को अलर्ट किया है और स्थिति पर नजर बनाए रखने को कहा है। जानकारी के अनुसार बरसात की बारिश के बाद पानी की स्कीमें प्रभावित होती हैं और मटमैला पानी आता है। प्रशासन ने विभाग को इस बाबत रिपोर्ट सौंपने को कहा है। इसके अलावा लोनिवि भी घाटी की सड़कों पर नजरें बनाए हुए हैं। लोनिवि के भुंतर के उपमंडलाधिकारी एसके धीमान ने  बताया कि घाटी की सभी सड़कें फिलहाल बहाल हैं, लेकिन फील्ड टीम को अलर्ट पर रखा गया है। वहीं, जिला प्रशासन ने नगर पंचायत भुंतर को भी दरिया किनारे रहने वालों को पानी से दूर रहने को कहा है।

You might also like