भारी बारिश… उफान पर नदी-नाले

कुल्लू  —हिमाचल में भारी बारिश की चेतावनी के चलते गुरुवार को शाम से ही समूचे जिला में तेज बारिश का क्रम जारी है। ऐसे में जहां नदी-नालों का पानी बढ़ गया, वहीं ब्यास नदी भी अपना रोद्र रूप धारण कर चुकी है। ब्यास नदी में पानी भरने से यहां नदी के किनारे बसे घरों में भी खतरा पैदा हो गया है। साथ ही नदी के किनारों पर बसे झुग्गी-झोंपड़ी वालों के भी अस्थायी घरों के अंदर पानी जाने से उन्हें भी भारी नुकसान झेलना पड़ा है। इसके साथ पार्वती  नदी पूरी तरह से रोद्र रूप धारण कर चुकी है। गुरुवार को समूचे जिलाभर में हुई बारिश के चलते जहां लोक निर्माण विभाग को भारी नुकसान झेलना पड़ा है। वहीं, कुछ ग्रामीण रूट भी इस दौरान प्रभावित हुए। पार्वती नदी का भी जलस्तर बढ़ने से मणिकर्ण में कुछ घरों को भारी क्षति पहुंची है। घरों में पानी घुस जाने से यहां लाखों का नुकसान जहां लोगों को हुआ है। वहीं, पुराने मंदिर को भी इससे क्षति पहुंची है। ब्यास में बढ़े स्तर स्तर को देखते हुए एक बार  उपायुक्त कुल्लू ने फिर से अलर्ट घोषित किया है। उन्होंने लोगों से नदी के पास न जाने के सलाह दी है। साथ ही देश-विदेश से मनाली घूमने आने वाले सैलानियों को भी नदी के पास न रुकने को सलाह दी है। उपायुक्त की मानें तो मौसम विभाग ने चेतावनी दी  है कि कुछ दिनों तक भारी बारिश होने की संभावना है। ऐसे में तेज बारिश होने पर जहां घरों से बाहर निकलने से बचें। साथ ही वाहनों को भी धीरे चलाए और साथ ही नदी-नालों से दूर रहें। ब्यास में बढ़े जलस्तर के चलते साहसिक खेलों पर भी प्रतिबंध है। ब्यास  में बढ़े जलस्तर के चलते ही प्रशासन ने साहसिक खेलों को बंद कर रखा है। उधर, प्रशासनिक अधिकारियों ने भी यहां कुल्लू से भूंतर, मणिकर्ण तक का जायाजा लिया, जहां पर बारिश से हुए नुकसान का भी आकलन किया गया है। उपायुक्त ने कहा कि जिलाभर में अलर्ट जारी किया गया है और सभी लोगों से अपील की है कि वह नदी-नालों के समीप न जाए।

You might also like