मोरनी गैंगरेप पर रिपोर्ट तलब

पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट ने लिया संज्ञान, दस दिन के अंदर सरकार से मांगा मामलें का ब्यौरा

चंडीगढ़— कथित मोरनी गैंग रेप में पीडि़ता के पति की गिरफ्तारी के बाद मामले का पंजाब-हरियाणा हाई कोर्ट ने स्वयं संज्ञान लिया  । हाईकोर्ट ने मामले में हरियाणा सरकार से 10 दिन में मांगी रिपोर्ट मांगी है। गौरतलब है कि बीते बुधवार को पुलिस ने महिला के पति को गिरफ्तार करने के बाद पंचकूला के जिला कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने उसे तीन दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया है। सूत्रों का कहना है कि पुलिस को सन्नी और महिला के पति के बीच की बातचीत की कॉल रिकार्डिंग और कॉल डिटेल्स मिली हैं। बता दें कि मोरनी के एक गेस्ट हाउस में 22 वर्षीय महिला से चार दिन तक कथित तौर पर 40 लोगों द्वारा सामूहिक दुष्कर्म किए जाने का खुलासे से हड़कंप मच गया था। महिला और उसके पति ने आरोप लगाया था कि गेस्ट हाउस में उसको नशा देकर दुष्कर्म किया जाता था। महिला का कहना था कि उसे नशा खिलाकर रोज नौ से 10 व्यक्ति सामूहिक दुष्कर्म करते थे। मामले के खुलासे के बाद हड़कंप मच गया और इस पर राजनीति भी गरमा गई थी। कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी इस पर ट्वीट किया। इस मामले में चार पुलिसकर्मी निलंबित किए जा चुके हैं। अन्य दो पुलिस अफसरों पर भी गाज गिरी है। महिला थाना प्रभारी राजेश कुमारी को थाने से हटा दिया गया और एसीपी ममता सौदा से महिला पुलिस थाने का सुपरविजन वापस ले लिया गया। महिला ने बताया था कि वह गेस्ट हाउस से किसी तरह बचकर भागी और अपने पति को फोन कर सारी कहानी बयां की। महिला ने बताया कि वह किसी तरह बस से पंचकूला पहुंची और वहां से उसका पति उसे महिला पुलिस थाने ले गया। लेकिन, वहां पर पुलिस द्वारा कोई सुनवाई नहीं की गई और उसे मनीमाजरा भेज दिया गया। युवती ने मनीमाजरा पुलिस को पूरी घटना बताई। चंडीगढ़ पुलिस ने केस दर्ज करके लवली रिजॉर्ट के मालिक एवं मैनेजर को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश करके न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

You might also like