यमुना का जलस्तर बढ़ने से बाढ़

बांध से पानी छोड़े जाने पर इंद्री के साथ लगते गांवों में दहशत का मौहाल, प्रशासन नहीं पहुंचा सुध लेने

करनाल— यमुना नदी में आए अत्यधिक पानी के कारण यमुना नदी का पानी आसपास के निचले क्षेत्रों में घुस गया है। यमुना नदी में शनिवार दोपहर बाद बांध से चार लाख 81000 क्यूसेक पानी छोड़े जाने से यमुना नदी के साथ लगते इंद्री हलके गांव में बाढ़ आने की संभावना से लोग दहशत में हैं। पहाड़ों से पिछले दो दिनों से यमुना नदी में छोड़ा जा रहा पानी यमुना नदी के क्षेत्र से लगते गांव के लिए परेशानी का सबब बन चुका है। यमुना नदी में आए अत्यधिक पानी के कारण यमुना नदी का पानी आसपास के निचले क्षेत्रों में घुस गया है। यमुना नदी में चल रहे ज्यादा पानी से इंद्री हलके के आधा दर्जन गांवों का संपर्क इंद्री से कट चुका है। इंद्री हलके का यमुना नदी के साथ लगते गांव से संपर्क कट जाने के कारण बीमार लोगों की परेशानी बढ़ गई है। यमुना नदी में अधिक पानी खेतों से होता हुआ आगे बढ़ रहा है। इस पानी की वजह से फसलों को नुकसान होने की संभावनाएं तेज हो गई हैं। यमुना में अधिक पानी छोड़े जाने के कारण क्षेत्र के किसान भी भयभीत हैं । पानी से परेशान लोगों ने मौके पर अधिकारियों के न पहुंचने से नाराजगी जताई है। यमुना नदी में आए पानी से परेशान किसान कर्म सिंह का कहना है कि यमुना नदी में अधिक पानी छोड़े जाने के कारण किसानों की फसलें तबाह हो जाती हैं। इस पानी की वजह से रंदौली  से नबियाबाद तथा नबियाबाद से जाने वाले सड़क मार्ग पर पानी चल रहा है, जिस कारण यह रास्ते आने जाने के लिए बंद हो चुके हैं। नदी में पार फंसे हुए किसान – मवेशी भी बाढ़ के कारण परेशान हैं। किसान राजीव का आरोप है कि सरकार किसानों व आम जनता को बाढ़ से बचाव के लिए विशेष प्रबंध नहीं कर रही है, जिस कारण आम जनता को भारी परेशानी उठानी पड़ रही है।

गुरुद्वारा बना लोगों की आस

बाढ़ के कारण यमुना नदी से लगते दर्जनभर गांवों का संपर्क इंद्री से कट जाने के कारण नबियाबाद गुरुद्वारा ही लोगों की आस बना हुआ है। इसगुरुद्वारे के संचालक बाबा मेहर सिंह ने कहा कि गुरुद्वारे में खाने-पीने व रहने से लेकर दवाई की भी व्यवस्था लोगों के लिए की जाती है ।

You might also like