शिमला में हड़ताल ने निचोड़ा सेब

शिमला —शिमला जिला की बड़ी फल मंडियों में गुरुवार को फल सब्जियों का कारोबार बंद रहा। ट्रक आपरेटरों की हड़ताल के चलते ढुलाई के लिए वाहनों के न मिलने से जिला की फल मंडियों में सुबह से लेकर शाम तक फसलों से लदे वाहन खड़े रहे, मगर यह आनलोड नहीं हो पाए। ऐसे में फल मंडियों में अपनी फसल की बर्बादी को देखकर किसानों-बागबानों के रातों की नींदें उड़ने लगी हैं। प्रदेश की सबसे बड़ी फल मंडी ढली में सेब की 40-50 पिकअप पहुंची, लेकिन ट्रक आपरेटरों की हड़ताल के चलते फल मंडी बंद रही। ऐसे में सुबह से लेकर शाम तक वाहन अनलोड नहीं हो पाए। वहीं, ढली फल मंडियों में सब्जियों से भरे वाहन भी दिन भर खड़े रहे। ढली फल मंडी आढ़ती एसोसिएशन ने किसानों-बागबानों के आह्वान पर शुक्रवार को फल मंडियों व रास्ते में फल मंडियों की ओर आने वाली फसल को बेचने का निर्णय लिया है, लेकिन शुक्रवार को ही फल मंडियों में कारोबार होगा।

वाहन न मिलने से उपजा विवाद

ढली फल मंडी आढ़ति एसोसिएशन के अध्यक्ष हरीश ठाकुर का कहना है कि ट्रक आपरेटरों ने हड़ताल के चलते फसलों की ढुलाई के लिए वाहन उपलब्ध करवाने से इंकार कर दिया है। ऐसे में बाहरी राज्यों से आए खरीददार फसलों को खरीदने के लिए तैयार नहीं है जिसके चलते फल मंडियों में कारोबार बंद रखा गया है।

खतरे से बचने लगे ट्रक ऑपरेटर

बाहरी राज्यों में लूटपाट की घटना में ट्रक ऑपरेटर बाहरी राज्यों को जाने से बचने लगे हैं। सब्जियों-फल को हड़ताल से दूर रखा गया था। मगर बुधवार को लूटपाट की घटना पेश आने से अब ट्रक ऑपरेटर दहशत में है और बाहरी राज्यों के लिए वाहन नहीं भेज रही है।

 

You might also like