संगड़ाह की सभी सड़कें घंटों बंद

 संगड़ाह —मूसलाधार बारिश के चलते लोक निर्माण विभाग मंडल संगड़ाह के अंतर्गत आने वाली सभी सड़कें शुक्रवार मध्यरात्रि से शनिवार सुबह तक एक बार फिर बंद रही। इनमें से संगड़ाह-रेणुकाजी-नाहन मार्ग पर हालांकि शनिवार सुबह नौ बजे तक विभाग द्वारा यातायात बहाल किया जा चुका था, मगर इसके बाद दो बार फिर से यह मार्ग भू-स्खलन के कारण करीब एक घंटे तक बंद रहा। बाद दोपहर एक बजे तक संगड़ाह-राजगढ़ व संगड़ाह-हरिपुरधार मार्ग पर भी विभाग द्वारा यातायात बहाल किया जा चुका था। लोक निर्माण मंडल की दर्जन भर सड़कों पर शनिवार को तीसरे दिन भी यातायात बहाल नहीं हो सका। बुधवार मध्यरात्रि तेज बारिश से बंद हुई क्षेत्र की संगड़ाह-गत्ताधार, अंधेरी-टिक्कर, सुंदरघाट-शिवपुर, संगड़ाह-टिकरी, मघुआ-मोहतू, संगड़ाह-कशलोग, डुंगी-भावण, गराड़ी-घाट, कोरग-बड़ोल व दनोई-खूड़ आदि सड़कों पर तीन दिन बाद भी विभाग द्वारा यातायात व्यवस्था बहाल नहीं की जा सकी। संगड़ाह अस्पताल संपर्क मार्ग भी बुधवार रात से एक निर्माणाधीन निजी भवन के समीप हुए भू-स्खलन से बंद है तथा एंबुलेंस अस्पताल तक नहीं जा रही है। इस कारण मरीजों को बारिश में सीएचसी तक पहुंचने में भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। क्षेत्र की सड़कें बंद होने के चलते क्षेत्रवासियों को 10 किलोमीटर तक की पैदल यात्रा करनी पड़ रही है तथा कुछ गांव के लोगों को बरसात में उफान पर मौजूद खड्डों अथवा नालों को पार करके मुख्य सड़क तक आना पड़ रहा है। टमाटर उत्पादकों की फसल खेतों में बर्बाद हो रही है तथा तीन दिन से लाल सोना कहे जाने वाले टमाटर का एक भी वाहन दिल्ली अथवा मंडियों तक नहीं पहुंच सका। सहायक अभियंता हरिचंद चौहान, कनिष्ठ अभियंता मुकेश कुमार तथा विभाग के अन्य स्थानीय कर्मियों के अनुसार क्षेत्र की संगड़ाह-रेणुकाजी-नाहन, संगड़ाह-हरिपुरधार-चौपाल, नौहराधार-हरिपुरधार व संगड़ाह-पालर-राजगढ़ मार्ग पर वाया नौहराधार यातायात बहाल किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि इन सड़कों पर बार-बार आ रहे मलबे को हटाने के लिए एक-एक जेसीबी मशीन रखी गई है, जबकि अन्य आधा दर्जन छोटी सड़कों पर भी यातायात बहाल करने के प्रयास शुरू किए जा चुके हैं।

You might also like