हड़ताल…सब्जियां गायब, राशन खत्म  

अब दिखने लगा असर, बरमाणा-बागा की फैक्टरियों में माल न बनने से लाखों का घाटा

शाहतलाई  – बीडीटीएस बरमाणा की बैठक प्रधान रमेश ठाकुर की अध्यक्षता में हुई। बैठक में निर्णय लिया गया कि सभी ट्रक आपरेटर शनिवार को बीडीटीएस के पुकार हाल में इकट्ठे होकर ट्रांसपोर्टरों की मांगों को लेकर आगामी रणनीति बनाई जा सके। ट्रांसपोर्टरों की देशव्यापी अनिश्चितकालीन हड़ताल शुक्रवार को आठवें दिन में प्रवेश कर गई, जिसका जिला बिलासपुर में भी पूर्ण असर देखने को मिला। राष्ट्रीय उच्च मार्ग स्वारघाट सड़क पर ट्रकों की हड़ताल के कारण आवाजाही थम सी गई है। प्रतिदिन बरमाणा, बग्गा व दाड़लाघाट सीमेंट फैक्टरियों से दो से अढ़ाई हजार ट्रकों का सीमेंट व क्लींकर या फिर वापसी का मैटीरियल लेकर आना-जाना बंद होने से कारोबारियों को भी आर्थिक नुकसान झेलना पड़ रहा है। एक लाख 60 हजार मीट्रिक टन सीमेंट व क्लींकर बरमाणा और बग्गा फैक्टरी का आठ दिनों की हड़ताल में जाने वाला माल नहीं बन पाया है। आठ दिनों में दोनों फैक्टरियों से तकरीबन 100 करोड़ से भी ज्यादा बाजारी कीमत का उत्पादन नहीं हो पाया, जिस कारण फैक्टरियों के वार्षिक टर्नओवर में नुकसान के साथ करोड़ों रुपए का नुकसान भी झेलना पड़ेगा है। ट्रक आपरेटरों को भी करोड़ों रुपए का ढुलाई कार्य का नुकसान हो रहा है। अब धीरे-धीरे इस हड़ताल का असर मार्केट में भी पढ़ने लगा है, जिससे सब्जियों के दाम बढ़ना भी शुरू हो गए हैं और साथ ही में अन्य मार्केट में राशन भंडारण स्टॉक भी दुकानदारों का कम होने के कारण चिंता सताने लगी है। वरिष्ठ उपप्रधान ऑल हिमाचल ट्रांसपोर्ट फेडरेशन व महासचिव बीडीटीएस कुलदीप गौतम ने बताया कि आल हिमाचल ट्रांसपोर्ट फेडरेशन के अध्यक्ष नरेश गुप्ता व चेयरमैन विद्यारतन चौधरी व अन्य पदाधिकारियों को शुक्रवार को दोबारा वापस आल इंडिया  मोटर ट्रांसपोर्ट कमेटी के पदाधिकारियों ने दिल्ली बुलाया है। एक-दो दिनों के बीच केंद्र सरकार के साथ बातचीत होने की जानकारी ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट की ओर से मिली है।

You might also like