अपनी स्कॉलरशिप से बच्चें की फीस

मंडी – आज भी देश, प्रदेश में बहुत से ऐसे बच्चे हैं, जो अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ देते हैं, क्योंकि उनके माता-पिता के पास बच्चों की पढ़ाने तक के पैसे नहीं होते। यह बात आईआईटी मंडी के पीएचडी स्कॉलर को हमेशा से अखरती थी। इसलिए आईआईटी मंडी के पीएचडी स्कॉलर मोहम्मद सुल्तान आलम अपनी स्कॉलरशिप की फीस से 12 बच्चों की पढ़ाई का खर्च उठाने का बीड़ा उठाया है। ये वे बच्चे हैं, जो पढ़ना तो चाहते हैं, लेकिन इनके माता-पिता के पास बच्चों की फीस देने तक के पैसे नहीं हैं। इसलिए राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कमांद के 12 बच्चों की पढ़ाई का खर्च मोहम्मद सुल्तान आलम उठा रहे हैं। आईआईटी मंडी से पीएचडी कर रहे मोहम्मद सुल्तान उत्तर प्रदेश के ईटा के रहने वाले हैं और उन्होंने अपनी स्कॉलरशिप के पैसे से बच्चों 12 बच्चों को पढ़ाई के लिए गोद लिया है। यही नहीं, वह खुद स्कूल में जाकर बच्चों को मोटिवेट और गाइड कर रहे हैं। मोहम्मद सुल्तान का कहना है कि वह हमेशा से समाज के लिए कुछ करने के बारे में सोचते हैं। आज भी कई बच्चे पैसे न होने के कारण पढ़ाई नहीं कर पाते। उन्होंने कहा कि वह लगातार स्कूल में जाकर बच्चों की मोटिवेट करते रहेंगे और साथ ही साथ बच्चों की पढ़ाई में इंप्रूवमेंट पर भी नजर रखेंगे। मोहम्मद सुल्तान के पिता भी पेशे से अध्यापक हैं और भाई भी आईआईटी मंडी में अध्ययनरत हैं। कमांद में मोहम्मद सुल्तान की इस नेकी के चर्चे हैं और जिन बच्चों की पढ़ाई का खर्च वह उठा रहे हैं, उनके माता-पिता भी उन्हें दुआएं दे रहे हैं। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला कमांद के प्रधानाचार्य सुशील अरोड़ा ने बताया कि आईआईटी मंडी के पीएचडी स्कॉलर मोहम्मद सुल्तान ने 12 बच्चों की स्कूल फीस के लिए पैसे जमा करवाए हैं।

इनकी पढ़ाई का खर्च उठा रहे सुल्तान

जिन 12 बच्चों की पढ़ाई की फीस का खर्च मोहम्मद सुलतान उठा रहे हैं। इनमें अंजलि नौवीं, अशरफ नौवीं, पूजा नौवीं, अरुण नौवीं, ईशा दसवीं, कुशमिता दसवीं, कामना दसवीं, हीना दसवीं, विजय दसवीं, पूजा जमा एक, कुसमा 12वीं और शिलु 12वीं शामिल हैं।

You might also like