भारत को मिलेगा सस्ता कच्चा तेल

नई दिल्ली— एशिया में चीन अमरीकी क्रूड और गैस का सबसे बड़ा खरीददार है, लेकिन ट्रेड वॉर छिड़ने के बाद से चीन के सबसे बड़े ट्रेडिंग हाउस ने अमरीकी कच्चे तेल और गैस की खरीद बंद कर दी है। चीन यदि इस तरह से अमरीकी कच्चे तेल का बायकॉट करता है, तो इसका मतलब है कि ईरान क्रूड मार्केट का अहम प्लेयर बना रहेगा। जिस पर अमरीका ने कई तरह के प्रतिबंध लगाए हैं। हालांकि चीन और अमरीका के बीच कारोबारी तनाव के चलते भारत पर ईरान के ऊपर लगे प्रतिबंधों का असर भी कम ही होगा। थॉमसन रॉयटर्स ऑसल रिसर्ट एंड फोरकास्ट्स की ओर से जुटाए गए डाटा के मुताबिक इस महीने भारत ने अमरीका से 319000 बैरल प्रतिदिन क्रूड की बुकिंग कराई है। इससे पता चलता है कि अमरीका से भारत का आयात कितनी तेजी से बढ़ा है। क्रूड मार्केट के एनालिस्ट्स का कहना है कि ऐसी स्थिति में भारत के पास अमरीका से कच्चे तेल की खरीद के लिए सौदेबाजी करने का अवसर होगा, क्योंकि हालात ऐसे रहे तो भारत अमरीका का दूसरा सबसे बड़ा बायर होगा।

You might also like